सिटी स्टारः ससुराल में मिली प्रताड़ना से ली प्रेरणा, अब एनजीओ बना महिलाओं को दिलाती हैं न्याय

  • Sonu
  • Saturday | 12th August, 2017
  • local
संक्षेप:

  • ससुराल में मिली प्रताड़ना से ली प्रेरणा
  • अब NGO बना महिलाओं को दिलाती हैं न्याय
  • सीमा त्रिपाठी से NYOOOZ की खास बातचीत

कानपुरः NYOOOZ के लिए आज की सिटी स्टार एक ऐसी महिला सोशल वर्कर हैं जिन्हें ससुराल वालों ने खूब प्रताड़ित किया। लेकिन यह इस प्रताड़ना से टूटी नहीं बल्कि इससे प्रेरणा ली, महिलाओं पर हो रहे अत्याचार के खिलाफ आवाज को बुलंद किया और दर्जनों महिलाओं को इस अत्याचार से निजात दिलाया और आरोपियों को सबक भी सिखाया।

कल्यानपुर थाना क्षेत्र के केसव पुरम में रहने वाली सीमा त्रिपाठी अपने माता पिता के साथ रहती हैं। सीमा 5 बहने और तीन भाई हैं, सीमा ने एमए किया हैं। सीमा की शादी 2011 में गौरेन्द्र त्रिपाठी से हुई थी। लेकिन सीमा का आरोप है कि ससुराल में उनको दहेज़ के लिए प्रताड़ित किया जाने लगा। काफी दिनों तक वह संघर्ष करती रही आखिर में उन्हें ससुराल छोड़ कर मायके लौटना पड़ा।

सीमा ने बताया कि जब मायके लौट कर आई मैं पूरी तरह से टूट चुकी थी। लेकिन मैंने इसको कमजोरी नहीं बल्कि इससे प्रेरणा ली और खुद को मजबूत किया। मैंने अपना ध्यान भटकाने के लिए बच्चों को पढ़ाना शुरू कर दिया। मैं अभी भी बच्चों को निशुल्क पढ़ाती हूं बच्चों को पढाना मेरा शौक हैं।

उन्होंने बताया कि इसके बाद मैंने सखी केंद्र नाम की संस्था को ज्वाइन किया। पांच साल तक मैंने संस्था के लिए काम किया इसके बाद मैंने नारी जाग्रति नाम की सामाजिक संस्था का रजिस्ट्रेशन कराया। हमारी संस्था ने दर्जनों महिलाओं को न्याय दिलाया है। ससुराल में जो महिलाये प्रताड़ित की जाती हैं उनका पहले काउंसिलिंग कर दोनों पक्षों को समझाया जाता है ताकि किसी तरह से परिवार बर्बाद न हो। लेकिन इसके बाद भी जब नहीं मानते है तो कानूनी कार्रवाई के लिए हमारा एनजीओ काम करता है। हमने महिला उत्थान के लिये जागरूकता अभियान भी चला रहे है, इसके साथ ही स्वच्छता अभियान के लिए भी हामारी टीम प्रेरित कर रही है।

Related Articles