यमुना एक्सप्रेस-वे नहीं जनाब `डेथ-वे` बोलिए, इस साल अब तक 127 मौतें

संक्षेप:

  • यमुना एक्‍सप्रेस-वे पर इस साल अब तक 247 सड़क दुर्घटनाओं में 127 लोगों की मौत हो चुकी है.
  • वर्ष 2018 में 659 सड़क दुर्घटनाओं में 110 लोगों की मौत हो गई थी.
  • यूपी के आगरा जिले में यमुना एक्सप्रेस-वे पर सोमवार सुबह हुए भीषण बस हादसे में 29 लोगों की मौत हो गई.

आगरा: जबकि 16 लोग घायल हो गए. यूपी रोडवेज की डबल डेकर बस लखनऊ से दिल्‍ली जा रही थी और 40 फीट गहरे नाले में जा गिरी. शुरुआती जांच में पता चला है कि ड्राइवर को झपकी आ गई थी जिससे यह दर्दनाक हादसा हुआ. आंकड़ों पर अगर गौर करें तो यूपी की राजधानी को देश की राजधानी से जोड़ने वाला यमुना एक्‍सप्रेस-वे `मौत का एक्‍सप्रेस-वे` बनता जा रहा है.

6 महीने में 127 मौतें

रविवार देर रात को ही एक्‍सप्रेस-वे पर एक और हादसा हुआ था. आगरा के एत्‍मादपुर पुलिस स्‍टेशन के अंतर्गत आने वाले इलाके में यमुना एक्‍सप्रेस-वे पर खराब टायर को बदल रहे एक ट्रक ड्राइवर को किसी वाहन ने कुचल दिया जिससे उसकी मौत हो गई. यमुना एक्‍सप्रेस-वे पर सोमवार के हादसे में मारे गए लोगों की संख्‍या को अगर मिला दें तो इस साल अब तक 247 सड़क दुर्घटनाओं में 127 लोगों की मौत हो चुकी है.

ये भी पढ़े : पंचतत्व में विलीन हुए अरुण जेटली, राजकीय सम्मान के साथ बेटे रोहन ने दी मुखाग्नि


2018 में हुई थी 110 मौतें

यही नहीं वर्ष 2018 का साल भी हादसों से भरा रहा था. वर्ष 2018 में 659 सड़क दुर्घटनाओं में 110 लोगों की मौत हो गई थी. सोमवार की घटना के बारे में लखनऊ यूपीएसआरटीसी के एआरएम अंबरीन अख्‍तर ने कहा, `हादसे का शिकार बस 45 वर्षीय कृपा शंकर चौधरी चला रहे थे और सड़क दुर्घटना के मामले में उनका अब तक का शून्‍य रिकॉर्ड रहा है, हमें उनके बारे में कोई जानकारी नहीं है.

बहुत तेजी से जा रही थी बस

उधर, राज्‍य सरकार ने इस हादसे के संबंध में जांच के आदेश दे दिए हैं. इस एक्‍सप्रेस-वे की देखरेख करने वाली जेपी इंफ्राटेक सोमवार शाम तक अपनी रिपोर्ट देगी. एम योगी आदित्यनाथ ने सभी पीड़ित परिवारों को 5 लाख रुपये मुआवजे का ऐलान किया है. इस हादसे में मारे गए सत्‍य प्रकाश शर्मा की पत्‍नी मंजू शर्मा ने बताया कि बस बहुत तेजी से जा रही थी और अचानक यह डिवाइडर से टकरा गई और नाले में गिर गई. मंजू के सिर और पीठ में चोटें आई हैं.
रायबरेली की रहने वाली सुनीता ने कहा, `हम बस में सो रहे थे जब यह नाले में गिर गई. बस गिरते ही अफरातफरी की स्थिति थी और पानी अंदर घुस गया. हर कोई मदद के लिए चिल्‍ला रहा था. हादसे के बादे मैंने अपने पति और बेटी को नहीं देखा. एक अन्‍य यात्री दिलीप श्रीवास्‍तव ने कहा, `मैं नहीं जानता बस कैसे नाले में गिर गई लेकिन हर कोई बस से निकलने का प्रयास कर रहा था. हमें स्‍थानीय लोगों ने खींचकर बचाया.

बस में 40-45 यात्री थे सवार

मिली जानकारी के अनुसार अवध डिपो की रोडवेज बस रविवार रात 10 बजे आलमबाग रोडवेज बस स्टैंड से सवारियों को लेकर दिल्ली के लिए निकली थी. बस लखनऊ एक्सप्रेस-वे और इनर रिंग रोड होते हुए तड़के लगभग साढ़े चार बजे करीब बस यमुना एक्सप्रेस- वे पर पहुंच गई. बताया जा रहा है कि यहां से दो-तीन किलोमीटर चलते ही चालक को झपकी आ गई. इसके बाद अनियंत्रित होकर बस यमुना एक्सप्रेस- वे की चार फीट ऊंची रेलिंग को तोड़ते हुए 40 फीट गहरे नाले में जा गिरी. बताया जा रहा है कि बस में लगभग 40 से 45 यात्री सवार थे. हादसे के समय अधिकतर यात्री गहरी नींद में थे. किसी को चीखने का भी मौका नहीं मिला.

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

अन्य आगरा न्यूज़ हिंदी में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में
पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles