रिश्ते को किया तार-तार, बाप ने बेटी को 10 हजार में बेचा, UP Police रही बेखबर...गैंगरेप होने पर खुद को लगाई आग

संक्षेप:

  • उत्तर प्रदेश के हापुड़ में एक दिल दहलाने वाली घटना सामने देखने को मिली
  • एक पिता ने 10 हजार रुपए की खातिर अपने बेटी को ही बेच दिया
  • इसके बाद उस बेटी के साथ उन दरिदंगों ने कई बार रेप किया

उत्तर प्रदेश के हापुड़ में एक दिल दहलाने वाली घटना सामने देखने को मिली. दरअसल एक पिता ने 10 हजार रुपए की खातिर अपने बेटी को ही बेच दिया. इसके बाद उस बेटी के साथ उन दरिदंगों ने कई बार रेप किया. वहीं जब पीड़िता न्याय मांगने पुलिस के पास गई तो वहां पर पुलिस भी नहीं सुनी और कोई भी कार्रवाई नहीं की.  इससे तंग आकर महिला ने खुद को आग लगा ली.

खबरों की मानें 80 प्रतिशत तक झुलस चुकी महिला दिल्ली के एक अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रही है. टीओआई की रिपोर्ट के अनुसार, यह मामला हापुड़ का है. युवती के पिता और एक आंटी पर आरोप है कि पीड़िता के पति के मरने के बाद उसे बेच दिया गया था. जिस व्यक्ति ने युवती को खरीदा था, उसने कई लोगों से लोन ले रखा था. अपना लोन चुकाने के लिए उसने युवती को लोगों के यहां घरेलू काम करने के लिए भेजना शुरू कर दिया, जहां पर लगातार उसका रेप और यौन शोषण किया गया.

महिला का आरोप है कि उसके साथ पांच लोगों ने गैंगरेप किया. रिपोर्ट के अनुसार, रविवार को हापुड़ एसपी यशवीर सिंह ने कहा कि इस मामले में 14 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया जा चुका है और मामले की जांच की जा रही है. रिपोर्ट के मुताबिक, महिला का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें महिला ने आपबीती सुनाई है. इस वीडियो में महिला कह रही है, “मेरे साथ पांच लोगों ने गैंगरेप किया. जब वो मुझे धमकी देने लगे तो मैंने पुलिस से संपर्क किया. शिकायत के बावजूद पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की और पैसे लेकर केस को दबा दिया. जब पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की तो मैंने ये कदम (खुद को आग लगाई) उठाया.”

ये भी पढ़े : अर्श से फर्श पर: बाहुबली MLA अनंत सिंह बाढ़ कोर्ट में पेश, भेजे गये बेऊर जेल


वहीं दूसरी ओर इस मामले पर दिल्ली महिला आयोग अध्यक्ष स्वाति मालिवाल ने भी संज्ञान लिया है. स्वाति मालिवाल ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक पत्र लिखकर पीड़िता को न्याय दिलाने की मांग की है.

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Related Articles