नमो एप से तय होगा नेताओं का सियासी भविष्य, दावेदारों ने शुरू की जुगत

इलाहाबाद. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आगामी लोकसभा चुनाव के लिए सीधे तौर पर अभी जनता के बीच भले ही न पहुंचे हो।

लेकिन 2019 के आम चुनाव के लिए देश की जनता की राय जानने और उनकी मन की बात समझने के लिए नमो एप के जरिये सीधे जुड़ रहे है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2019 में एक बार फिर सत्ता में आने के लिए अपनी पूरी ताकत लगाने को तैयार है।

ऐसे में चुनावी मैदान में उतरने से पहले वह आम जनता से पार्टी और नेताओं की ताकत और लोक प्रियता को भांप रहे है।

जिसके लिए संगठन और सरकार ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है।

एप के जरिये प्रधानमंत्री सुनेगे जनता के मन की बात 2019 के आम चुनाव से पहले प्रधानमंत्री नमो एप जनता के मन की बात सुन रहे है।

एप के जरिए लोगों के सवालों के जबाब दिए जा रहे है।

जनता की इस रायशुमारी को चुनावी सर्वे के तौर पर देखा जा रहा है।और यह माना जा रहा है ।कि आगामी लोकसभा चुनाव में जनता के मन की आवाज सुनकर ही पार्टी का नेतृत्व प्रत्याशियों का चयन करेगा।आगामी चुनाव में घोषित होने वाले प्रत्याशियों के लिए सर्वे बेहद महत्वपूर्ण होने जा रहा है ।नमो एप का शुभारंभ बीती 26 मई को सरकार के चार साल पूरे होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था।नमो ऐप को शुरू करने का मकसद सरकार की योजनाओं और उसके क्रियान्वयन का फीडबैक लेना था।जिससे आम लोगों से सरकार अपने कामों और कार्यप्रणालियों की जानकारी ले सके।

नमो एप तय करेगा नेताओं का सियासी भविष्य प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नमो एप को जारी करते समय पार्टी नेताओं ने यह सोचा होगा की की इस एप के जरिये उनका सियासी भविष्य तय होगा ।

डिसक्लेमर :ऊपर व्यक्त विचार इंडिपेंडेंट NEWS कंट्रीब्यूटर के अपने हैं,
अगर आप का इस से कोई भी मतभेद हो तो निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखे।

Read more Allahabad News In Hindi here. देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में पढ़ने के
लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles