अब साल में दो बार होगी जेईई मेन्स और नीट की परीक्षाएं

संक्षेप:

  • अब नेशनल टेस्टिंग एजेंसी लेगी NET
  • NEET और JEE के एग्जाम
  • छात्र चुन सकेंगे तारीखें

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने जॉइंट एंट्रेंस एग्जाम (JEE) और नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET) को साल में दो बार कराए जाने को हरी झंडी दे दी है.

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में  केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि नेशनल टेस्‍टिंग एजेंसी (NAT) नीट (NEET), जेईई मेंस (JEE Mains) और नेट (NET) का आयोजन कराएगी. इससे पहले केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) इन परीक्षाओं का आयोजन करती थी.

मानव संसाधन विकास मंत्री ने बताया कि नेशनल टेस्‍टिंग एजेंसी ने अपना काम शुरू कर दिया है. जावड़ेकर ने बताया कि भारत की परीक्षा प्रणाली को विदेशों की तरह पारदर्शी बनाने के लिए सभी परीक्षाओं को कम्प्‍यूटर के जरिए लेने का निर्णय लिया गया है. उन्‍होंने बताया कि पाठ्यक्रम, फीस और भाषाओं में किसी भी तरह का कोई बदलाव नहीं किया गया है.

ये भी पढ़े : सीएम योगी का शिक्षामित्रों के लिए बड़ा फैसला, मूल स्कूलों में मिलेगी तैनाती


परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्‍नों के पैटर्न में भी किसी तरह का बदलाव नहीं किया गया है. उन्‍होंने कहा कि नीट में 13 लाख स्टूडेंट्स होते हैं, जबकि जेईई में 12 लाख और सीमैट में 1 लाख छात्र बैठते हैं.

मानव संसाधन विकास मंत्री ने बताया कि नेट की परीक्षा साल में एक बार दिसंबर में होगी. वहीं जेईई मेन्स की परीक्षा साल में दो बार होगी. नीट की परीक्षा भी फरवरी और मई में दो बार होगी. दोनों परीक्षाओं में से बेस्ट स्कोर के आधार पर एडमिशन होगा.

जावड़ेकर ने बताया कि कम्प्‍यूटर केंद्रों की घोषणा जल्द होगी. परीक्षा के दौरान इस बात का भी ध्‍यान रखा जाएगा कि छात्र अपने नजदीकी केंद्रों पर एग्जाम दे सकें.

हर एग्जाम चार-पांच दिनों तक होगा. छात्रों के पास परीक्षा की तारीख चुनने की सुविधा होगी. परीक्षा के दौरान सुरक्षा का विशेष ध्यान रखा जाएगा. कोई छात्र अगर परीक्षा की तारीख मिस करता है तो उसे दूसरा चांस भी मिल सकता है.

उन्‍होंने कहा कि यह ऑनलाइन नहीं बल्कि कम्प्‍यूटर बेस्ड एग्जाम होगा. इस तरह की परीक्षा से पारदर्शिता बढ़ेगी और धोखाधड़ी की संभावना कम होगी. उन्होंने कहा कि एसएससी की परीक्षा भी कंप्यूटर बेस्ड थी लेकिन फिर भी यह धोखाधड़ी का शिकार हो गई, एनटीए मॉड्यूल स्क्रीन शेयरिंग की अनुमित नहीं देता है.

मंत्रालय ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि समय पर परीक्षा के परिणाम सुनिश्चित करने के लिए परीक्षाओं में अत्यधिक सुरक्षित आईटी सॉफ्टवेयर और एन्क्रिप्शन का उपयोग किया जाएगा.

एनटीए ग्रामीण क्षेत्रों के छात्रों के लिए टेस्ट प्रैक्टिस सेंटर की स्थापना करेगा, ताकि टेस्ट से पहले सभी को अभ्यास करने के लिए पर्याप्त अवसर मिल सके. जिन स्कूल और इंजीनियरिंग कॉलेजों में कम्प्यूटर सेंटर हैं अगस्त के तीसरे सप्ताह से उन्हें शनिवार, रविवार को खुला रखा जाएगा. कोई भी छात्र यहां निशुल्क प्रशिक्षण ले सकेगा.

प्रेस रिलीज के अनुसार परीक्षाओं का शेड्यूल

दिसंबर 2018 में NET 

JEE Mains जनवरी और अप्रैल 2019

अन्य बरेली ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में
पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें|

Related Articles