बरेली में भगवान राम की भूमिका निभा रहा ये मुस्लिम शख्स

संक्षेप:

  • विजयदशमी आज
  • बरेली में कई जगहों पर रामलीला का आयोजन
  • मुस्लिम शख्स बना भगवान राम

बरेली: आज विजयदशमी है। इस मौके पर बरेली में चारों तरफ राम लीला का आयोजन हो रहा है. वहीं एक ऐसी रामलीला आयोजित हो रही है, जिसके काफी चर्चे हैं. इसमें भाग लेने वाले कलाकारों में बड़ी संख्या में मुस्लिम हैं. इसमें भगवान राम की भूमिका निभाने वाले दानिश खान हैं.

इस राम लीला को देखने के लिए प्रदेश के वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल से लेकर कई विधायक और सरकारी अफसर आ चुके हैं. पिछले हफ्ते भर से सवा दो घंटे के इस नाटक का मंचन विंडरमेयर थियेटर में हो रहा है. इन दिनों विंडरमेयर में रामलीला को नए तरीके से पेश किया जा रहा है. पूरी रामायण को सवा दो घंटे में समाया गया है. इस नाटक में एक नहीं कई खूबियां हैं. सबसे अहम यह है कि इसमें आधे से ज्यादा कलाकार मुसलमान हैं.

भगवान राम जी की भूमिका दानिश खान ने निभाई है. उन्होंने पिछले दो महीने से अपना जीवन सात्विक बना रखा है. इसका मतलब मांस-मछली सभी कुछ छोड़ दिया है. इसके अलावा राम जी की माता कैकेयी का किरदार समयून खान निभा रही हैं. नाटक में कुल नौ कलाकार मुस्लिम हैं. 

ये भी पढ़े : Lok Sabha Election 2019: चुनाव की ड्यूटी के दौरान हुई 4 कर्मचारियों की मौत


आपको बता दें इस नाटक की तैयारी पिछले एक साल से चल रही थी. यह नाटक तुलसीदास द्वारा रचित रामायण पर आधारित है, लेकिन कई अन्य रामायणों से भी मदद ली गई है. बरेली के मशहूर पंडित राधेश्याम कथावाचक की रामायण से भी सहयोग लिया गया है. नाटक की खूबी यह भी है कि इसे नौटंकी शैली में प्रस्तुत किया गया है. नाटक के लेखक अंबुज कुकरेती हैं.

बरेली की रामलीला बाकी राम लीलाओं से इसलिए भी अलग है क्योंकि आधुनिक प्रकाश, ध्वनि, संगीत और गायकों और अभिनेताओं ने नई तकनीकी के साथ इसे पेश किया है. मेकअप और कास्ट्यूम पर भी काफी मेहनत की गई है. खास बात यह भी है कि इसके डायलॉग में उर्दू शब्दों की भरमार है. अपनी विशेष प्रस्तुति के कारण दर्शक अंत तक नाटक से बंधे रहते हैं.

पंडित राधेश्याम कथावाचक की धरती बरेली में रामायण का यह अनूठा प्रयोग दर्शकों को बहुत दिन याद रहेगा. आयोजकों की तैयारी इस नाटक को भगवान राम की नगरी अयोध्या में प्रस्तुत करने की है.

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

अन्य बरेली ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में
पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें|

Related Articles