कासगंज में तिरंगा यात्रा पर रोक, धारा 144 लागू

संक्षेप:

  • स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगा यात्रा निकालने की अनुमति नहीं
  • कासगंज जिले में धारा 144 को सख्ती से लागू
  • 26 जनवरी को तिरंगा यात्रा के दौरान चंदन गुप्ता नामक युवक की हत्या हो गई थी

कासगंज: 26 जनवरी को तिरंगा यात्रा के दौरान भड़की हिंसा को ध्यान में रखते हुए 15 अगस्त को कासगंज जिले में तिरंगा यात्रा निकालने की अनुमति नहीं दी गई है। जिले में चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात है और धारा 144 को सख्ती से लागू किया गया है। पिछले 15 दिनों से कासगंज पुलिस और जिला प्रशासन जिले के अलग-अलग भागों में फ्लैग मार्च कर पुलिस फ़ोर्स को दंगा नियंत्रण उपकरणों का इस्तेमाल करने का प्रशिक्षण दे रहा है। पूरे कासगंज को छावनी बना दिया गया है।

आपको बता दें कि कासगंज में 26 जनवरी 2018 को विश्व हिन्दू परिषद और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के लोगों ने तिरंगा यात्रा निकाली थी। एक समुदाय विशेष के लोगों ने बाइक पर निकली तिरंगा यात्रा पर पथराव किया था जिसके बाद हिंसा भड़क गई। हिंसा में चंदन नाम के युवक की मौत हो गई थी। उसके बाद 10 दिनों तक कासगंज में हिंसा, आगजनी, पथराव और गोलीबारी का दौर चला था, जिसमे करोड़ों की संपत्ति का नुकसान हुआ था। इस बार भी 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर कुछ संगठनों ने कासगंज में तिरंगा यात्रा निकालने की जिला प्रशासन से अनुमति मांगी है।

कासगंज के जिला अधिकारी आरपी सिंह ने कहा कि किसी को भी अभी तक तिरंगा यात्रा निकालने की अनुमति नहीं दी गई है। लोगों को सुरक्षा कवच योजना के तहत जागरूक किया जा रहा है। लोगों से कहा जा रहा है कि अराजक तत्वों पर नज़र रखें। सोशल मीडिया पर नज़र रखी जा रही है जिससे कोई भ्रामक खबर न फैलाए। किसी की भावना को भी ठेस न पहुंचे ऐसी हमारी कोशिश है।

ये भी पढ़े : नोएडा मेट्रो के इस लाइन पर मुश्किल से 10 पैंसेजर भी नहीं चढ़ते, अब इन स्टेशनों पर खोले जाएंगे कोचिंग सेंटर


राजनीतिक यात्राओं पर प्रतिबंध

डीएम आरपी सिंह ने बताया, केवल राजनीतिक दलों की यात्राओं पर प्रतिबंध रहेगा। तिरंगा यात्रा निकलने के 4 आवेदन आए थे सभी को निरस्त कर दिया गया है किसी को तिरंगा यात्रा निकलने की अनुमति नही दी गई हैं। तीन अतिरिक्त मजिस्ट्रेट और 3 क्षेत्राधिकारियों की मांग भी की गई है।

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

अन्य बरेली ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में
पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें|

Related Articles