CM योगी के निर्देश पर गांव-गांव पहुंची UP की टॉप ब्यूरोक्रेसी, जाना किसानों का हाल और परेशानी

संक्षेप:

बरेली: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने सूबे की टॉप ब्यूरोक्रेसी को नोडल अफसर के रूप में किसानों का हाल-चाल जानने के लिए कड़ाके की ठंड में सभी 75 जिलों में भेजा. यह पहला मौका है, जब टॉप ब्यूरोक्रेट क्रिसमस (Christmas) और नए वर्ष (New Year) की छुट्टियां मनाने के बजाए पिछले तीन दिनों से ग्रामीण इलाकों में धान एवं गन्ना क्रय केंद्र, गौशालाओं और कोविड केयर सेंटर की जांच पड़ताल करते दिखाई दिए. इस रियलिटी चेक के दौरान अफसरों को कई चौंकाने वाली जमीनी हकीकत देखने को मिली. कहीं, एक्शन लिया गया तो कहीं चेतावनी दी गई. इस दौरान अफसर किसानों की दिक्कतों का पता लगाते दिखे और उनका निदान भी करते रहे. किसानों ने भी गांव पहुंचे अफसरों को अपने दिल का हाल खुलकर बताया.

बरेली: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने सूबे की टॉप ब्यूरोक्रेसी को नोडल अफसर के रूप में किसानों का हाल-चाल जानने के लिए कड़ाके की ठंड में सभी 75 जिलों में भेजा. यह पहला मौका है, जब टॉप ब्यूरोक्रेट क्रिसमस (Christmas) और नए वर्ष (New Year) की छुट्टियां मनाने के बजाए पिछले तीन दिनों से ग्रामीण इलाकों में धान एवं गन्ना क्रय केंद्र, गौशालाओं और कोविड केयर सेंटर की जांच पड़ताल करते दिखाई दिए. इस रियलिटी चेक के दौरान अफसरों को कई चौंकाने वाली जमीनी हकीकत देखने को मिली. कहीं, एक्शन लिया गया तो कहीं चेतावनी दी गई. इस दौरान अफसर किसानों की दिक्कतों का पता लगाते दिखे और उनका निदान भी करते रहे. किसानों ने भी गांव पहुंचे अफसरों को अपने दिल का हाल खुलकर बताया.

लौटकर सीएम को देनी है रिपोर्ट

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर 27 दिसंबर से किसानों का हाल जानने के लिए ग्राउंड जीरो यानि गांव तथा धान एवं गन्ना केंद्रों पर घूम रहे टॉप ब्यूरोक्रेट आज शाम से अपना तीन दिनों का ग्रामीण भ्रमण पूरा कर लखनऊ लौटना शुरू कर चुके हैं. अब इन्हें अपनी रियलिटी चेक की रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंपनी है. माना जा रहा है कि अफसरों की रिपोर्ट के आधार पर किसानों के हितों को लेकर सरकार आगे की रणनीति तय करेगी.

ये भी पढ़े : मुजफ्फरनगर: नवजात बच्चे को बदलने का आरोप,परिवार ने किया हंगामा


 

 

 

 

इस अभियान में अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव, सचिव, विशेष सचिव तथा मंडलायुक्त स्तर के जिलों में पहुंचे अफसरों ने कई स्तर पर ग्रामीणों के हालतों का जायजा लिया है. इन अफसरों ने मुख्यमंत्री के निर्देश पर चिन्हित किए गए जिलों में 3 दिन रुककर धान क्रय केंद्रों, गन्ना खरीद केंद्रों तथा गौआश्रय स्थलों का दौरा किया, लोगों की समस्याओं को सुना. यही नहीं नोडल अधिकारी के रूप में जिले में गौ-आश्रय स्थलों की व्यवस्था, विशेष वरासत अभियान, विद्युत आपूर्ति और किसानों को उपलब्ध कराई जा रही सिंचाई सुविधा की भी समीक्षा की.

जानिए कौन अफसर किस जिले में रहा

अपर मुख्य सचिव कृषि देवेश चतुर्वेदी ने वाराणसी के विकासखंड सेवापुरी में प्राकृतिक खेती के एक क्लस्टर व धान क्रय केंद्र का निरीक्षण कर कृषकों को मिलने वाली सुविधाओं का जायजा लिया. वह धान क्रय केंद्र पर भी गए और किसानों से उनकी दिक्कतों के बारे पूछा. उधर प्रतापगढ़ पहुंचे अपर मुख्य सचिव, चिकित्सा स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने जिलाधिकारी के साथ मेला क्षेत्र का भ्रमण कर तैयारियों की समीक्षा की. फिर उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर कोविड-19 प्रोटोकाल को लेकर तैयारियों की जानकारी ली. उन्होंने धान केंद्र का निरीक्षण कर किसानों से वार्ता की और उनकी दिक्कतों को जाना. इसी तरह प्रमुख सचिव भुवनेश कुमार ने कौशांबी के कलेक्ट्रेट परिसर में दिब्यांगजनों को ट्राईसाइकिल एवं कम्बल वितरण किये और अधिकारियों से कहा कि सरकार द्वारा संचालित योजनाओं से दिव्यांगों को लाभान्वित कराया जाये.

 

अपर मुख्य सचिव आबकारी एवं गन्ना तथा चीनी उद्योग नोडसंजय भूसरेड्डी ने गोरखपुर में कोरोना वैक्सीनेशन कोल्ड स्टोरेज सेंटर, गो-आश्रय स्थल, धान क्रय केंद्र व गन्ना तौल केंद्र का निरीक्षण कर अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए. अपर मुख्य सचिव आराधना शुक्ला ने जनपद फर्रुखाबाद की मोहम्मदाबाद मंडी के धान क्रय केंद्र का निरीक्षण किया.

सचिव, चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग अपर्णा यू ने रामपुर में विलासपुर मंडी में धान क्रय केंद्र का निरीक्षण किया. अधिकारियों से धान खरीद की जानकारी ली तो पता चला कि जनपद में 240000 एमटी धान खरीद लक्ष्य के सापेक्ष 278000 एमटी धान की खरीद की जा चुकी है जो लक्ष्य से लगभग 16% अधिक है. आयुक्त खाद्य एवं सुरक्षा मिनिस्ती एस. ने सीतापुर में गो-आश्रय केंद्रों एवं कोविड-19 वैक्सीन कोल्ड चेन स्टोर का निरीक्षण किया. उन्होंने अधिकारियों को महत्वपूर्ण दिशा-निर्देश दिए और महिलाओं को कंबल भी बांटे. सीईओ नोयडा रितु माहेश्वरी ने बिजनौर स्थित गो-आश्रय स्थल, धान क्रय केंद्र एवं कोविड-19 वैक्सीन कोल्ड चेन की भंडारण व्यवस्था का निरीक्षण कर अधिकारियों को निर्देश दिए.

गायों को गुड़ और चारा भी खिलाया

चंदौली के नोडल अधिकारी बनाये गए वाराणसी के कमिश्नर दीपक अग्रवाल और आईजी विजय सिंह मीणा सोमवार की सुबह चंदौली पहुंचे. इन अधिकारियों ने सैयदराजा स्थित एक धान क्रय केंद्र का निरीक्षण किया और वहां पर मौजूद किसानों से अधिकारियों ने धान खरीद के संदर्भ में बातचीत की. दीपक अग्रवाल ने इस धान क्रय केंद्र से ही उन किसानों को फोन मिलाकर धान खरीद का रियलिटी चेक भी किया, जिन्होंने पूर्व में अपने धान की बिक्री इस क्रय केंद्र पर की थी. अफसरों ने दीनदयाल नगर क्षेत्र में स्थित एक गौशाला के हालात का जायजा लिया और गायों को गुड़ और चारा भी खिलाया.

अपर मुख्य सचिव युवा कल्याण डिम्पल वर्मा ने हरदोई में किसान से वार्ता कर धान क्रय केंद्रों का हाल जाना. उन्होंने मौके पर मौजूद किसानों से भी बात करके धान खरीद में हो रही समस्याओं को सुना और अधिकारियों को किसानों की समस्याओं के निस्तारण के निर्देश दिए. उन्होंने कोरोना वैक्सीन के प्रथम चरण को लेकर वैक्सीन रखने की व्यवस्था और वैक्सीन लगने वाली जगहों का भी निरीक्षण किया.

गौ आश्रय स्थल के निर्माण में पकड़ीं खामियां

मऊ में प्रमुख सचिव सांस्कृतिक एवं पर्यटन और जिले के नोडल अधिकारी मुकेश कुमार मेश्राम ने यहां गौशाला निर्माण में खराब सामग्री का इस्तेमाल पकड़ा. मामले में मुकेश मेश्राम ने विभाग के प्रोजेक्ट मैनेजर और ठेकेदार से रिकवरी का आदेश जारी कर दिया है. ये गो आश्रय स्थल एक करोड़ 20 लाख की लागत से बना है. प्रमुख सचिव के आदेश पर तत्काल ठेकेदार को हिरासत में ले लिया गया है.

किसानों से पता चला- धान में लगा हल्दिया रोग

देवरिया में अपर मुख्य सचिव राजन शुक्ला ने पीपरपाती में बने कान्हा गौशाला का निरीक्षण किया. उन्होंने वहां मौजूद गौशाला के केयर टेकर और कर्मियों से गाय, बछड़ों के रख रखाव, चारे, ठंढ से बचाव इत्यादि के बारे में जानकारी ली. इसके बाद उन्होंने सोनुघाट स्थित धान क्रय केंद्र पर किसानों से बात की और धान क्रय केंद्र के हालात से रूबरू हुए. धान केंद्र पर मौजूद एक किसानों ने उन्हें अपनी समस्या बताई और कहा कि धान में हल्दिया रोग लग गया है, जिसकी वजह से धान बेचने में परेशानी हो रही है. इस पर नोडल अधिकारी राजन शुक्ला ने धान की सफाई करवाकर धान क्रय करने के लिए क्रय केंद्र प्रभारी को निर्देश दिया. प्रमुख सचिव, ग्राम्य विकास विभाग एवं आयुक्त ग्राम्य विकास के. रविन्द्र नायक ने आजमगढ़ में कलेक्ट्रेट सभागार में गन्ना, पशुपालन,कृषि,सिंचाई, लघु सिंचाई, धान क्रय केन्द्र, विद्युत आदि विभागों की समीक्षा बैठक की. उन्होंने धान क्रय केंद्र और गौशाला का निरीक्षण भी किया.

प्रमुख सचिव सामान्य प्रशासन जितेंद्र कुमार ने शाहजहांपुर के विकास भवन सभागार में विकास कार्यो एवं कानून व्यवस्था की समीक्षा की. उन्होंने बनतारा में गन्ना क्रय केंद्र एवं निर्माधीन ऑटोमेटिक ट्रांसफर स्टेशन तथा तहसील सदर के निरीक्षण दौरान सम्बन्धित को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए. उन्होंने जिला चिकित्सालय एवं रौजा मंडी में धान क्रय केंद्रों तथा निर्माणाधीन वीवी पैट/वेयर हाउस व मिश्रीपुर तराई में कान्हा गोशाला के निरीक्षण दौरान निर्देश दिए. प्रमुख सचिव आवास एवं शहरी नियोजन दीपक कुमार ने एटा स्थित कृषि उत्पादन मंडी समिति पहुंचकर खाद विभाग द्वारा संचालित क्रय केंद्र का निरीक्षण किया व संबंधित अधिकारियों को समय से किसानों का भुगतान सुनिश्चित कराने के दिशा-निर्देश दिए. मुरादाबाद के नोडल अधिकारी, अपर मुख्य सचिव मनोज सिंह ने उमरी कला स्थित कान्हा गौशाला का निरीक्षण करने के साथ ही गन्ना एवं धान क्रय केंद्र का निरीक्षण कर अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए.

चौपाल लगाकर किसानों की समस्याओं को जाना

बरेली जिले के नोडल अधिकारी अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल में बहेड़ी में धान खरीद सेंटर का निरीक्षण किया. इस दौरान किसानों ने धान की तौल कम होने के शिकायत की. किसानों ने बताया कि बहेड़ी में धान खरीद के सेंटर कम होने से किसानों को धान तुलवाने काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है. एक हफ्ते में तौल का नंबर आता है. अपर मुख्य सचिव ने डीएम बरेली से धान खरीद के सेन्टर बढ़ाने को कहा. उन्होंने धान खरीद के लिए किए गए प्रबंधों को देखने के बाद वही गुड़वारा गांव में सरकारी स्कूल में चौपाल लगा कर ग्रामीणों की जनसमस्याओं को भी सुना. उन्होंने बहेड़ी में बने गोशाला केंद्र व सरकारी अस्पताल के निरीक्षण किया, जिसमें जो भी खामियां मिलीं, उन्हें तुरंत सुधारने के निर्देश दिए.

If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

अन्य बरेली ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में
पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें|

Related Articles