अब सड़कों पर नहीं भटकेंगी गाय, बनेंगे संरक्षण केंद्र

बरेली। प्रदेश में योगी सरकार आने के बाद अवैध बूचड़खानों पर सख्ती से सड़कों पर गौवंश की संख्या बढ़ गई है।

इन्हें पालने वाले बूढ़ी हो जाने पर गायों को सड़कों पर भटकने के लिए छोड़ देते हैं।

सड़कों पर गौवंश की भरमार की शिकायत पर सरकार सक्रिय हो गई है और अब सरकार बुंदेलखंड के सात जिलों को छोड़ कर सभी जिलों में गौसंरक्षण केंद्र खोलने जा रही है इसके लिए सरकार की तरफ से बजट जारी किया गया है।एक गौसंरक्षण केंद्र के बनने में एक करोड़ 20 लाख रुपए खर्च होंगे जिसमें से 50-50 लाख रुपए की पहली किश्त जारी कर दी गई है।

गौसंरक्षण केंद्र के लिए बरेली में जिला प्रशासन जमीन की तलाश कर रहा है।

यह भी पढ़ें- दोबारा निकाह के लिए ससुर के साथ करना पड़ा हलाला फिर भी नहीं रखा साथ

68 जिलों में बनेगा गौसंरक्षण केंद्र

आवारा भटकती गायों को लेकर योगी सरकार गम्भीर हो गई है।

कई महीनों से योगी सरकार इस पर योजना तैयार कर रही थी जिस पर अब अमल शुरू हुआ है।

प्रदेश के 68 जिलों में उत्तर प्रदेश विधायन एवं निर्माण सहकारी संघ लिमिटेड को गौसंरक्षण केंद्र बनाने की जिम्मेदारी दी गई है।

गौसंरक्षण केंद्र में पशुओं की देखभाल का पूरा इंतजाम होगा।

डिसक्लेमर :ऊपर व्यक्त विचार इंडिपेंडेंट NEWS कंट्रीब्यूटर के अपने हैं,
अगर आप का इस से कोई भी मतभेद हो तो निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखे।

अन्य बरेली ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में
पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें|

Related Articles