Lok Sabha Election 2019: बिहार की 5 सीटों पर वोटिंग जारी, बेगूसराय के मुकाबले पर देश भर की नजर

संक्षेप:

  • लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में राज्य की पांच सीटों दरभंगा, उजियारपुर, समस्तीपुर, बेगूसराय और मुंगेर में आज वोट डाले जा रहे है।
  • 87 लाख 74 हजार 996 वोटर कुल 66 इनमें 63 पुरुष और तीन महिला प्रत्याशी हैं.
  • चरण में सबसे अधिक मतदाताओं वाला और सबसे बड़े क्षेत्रफल वाला संसदीय क्षेत्र बेगूसराय है, जबकि उजियारपुर सबसे छोटा है.

लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में राज्य की पांच सीटों दरभंगा, उजियारपुर, समस्तीपुर, बेगूसराय और मुंगेर में आज वोट डाले जा रहे है। इस चरण के सभी क्षेत्रों में मतदान सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक है। 87 लाख 74 हजार 996 वोटर कुल 66 इनमें 63 पुरुष और तीन महिला प्रत्याशी हैं. दरभंगा में आठ, उजियारपुर में 18, समस्तीपुर में 11, बेगूसराय में 10 और मुंगेर में 19 उम्मीदवार मैदान में हैं. उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे. इनमें सिर्फ तीन महिला प्रत्याशी हैं. बेगूसराय और दरभंगा में कोई महिला प्रत्याशी नहीं हैं. रविवार को हीं मतदानकर्मियों को इवीएम व वीवीपैट मशीनाें के साथ बूथों पर रवाना कर दिया गया.

आपको बता दे की 2014 में इन पांचों सीटों पर एनडीए ने कब्जा जमाया था.चौथे चरण में सबसे अधिक मतदाताओं वाला और सबसे बड़े क्षेत्रफल वाला संसदीय क्षेत्र बेगूसराय है, जबकि उजियारपुर सबसे छोटा है.
आपको बता दे की चौथे चरण में
कुल वोटर--- 8792548
जेनरल वोटर--- 8774996
पुरुष वोटर--- 4670848
महिला वोटर --- 4103920
थर्ड जेंडर---- 228
सर्विस वोटर -- 17552
पुरुष वोटर--- 16599
महिला--- 953

कुल प्रत्यशी--- 66
पुरुष प्रत्यशी--- 63
महिला प्रत्याशी----03
मुंगेर में सबसे अधिक प्रत्याशी - 19
सबसे कम प्रत्याशी दरभंगा में -08
पार्टी वार प्रतयाशी
बसपा- 04
भाजपा- 03
भाकपा- 01
माकपा- 01
कांग्रेस- 02
राजद- 02
जदयू- 01
लोजपा- 01
रालोसपा- 01

ये भी पढ़े : अजीबोगरीब बयान: प्रज्ञा ठाकुर बोलीं-विपक्ष के जादू-टोने से बीजेपी नेताओं का हो रहा निधन


रजिस्टर्ड नॉन रिकनाइज्ड पार्टी- 20
निर्दलीय- 21
बूथों की संख्या - 8834

चौथे चरण के मतदान में कंट्रोल यूनिट की संख्या- 8834
बैलट यूनिट- 12360
वीवीपैट-- 8834

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Related Articles