गुना से शुरु हुआ संघ प्रमुख मोहन भागवत का मध्य प्रदेश दौरा सीएए और एनआरसी को लेकर चल रहे विरोध प्रदर्शन के लिहाज से भी अहम माना जा रहा है

भोपाल. संघ प्रमुख मोहन भागवत के दौरे की खास बात ये है कि इस दौरान वे युवा संवाद से लेकर विभाग और जिला प्रचारकों के साथ बैठकें करेंगे. करीब पांच साल के बाद ऐसा पहली बार होगा जब संघ प्रमुख की प्रचारकों के साथ बैठक होने जा रही है. वे इसके अलावा संघ के आनुषांगिक संगठनों के साथ भी बैठक करेंगे. जिसमें प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह और संगठन महामंत्री सुहास भगत समेत बीजेपी के तमाम बड़े नेता मौजूद रहेंगे. संघ प्रमुख के दौरे को लेकर माना जा रहा है कि वो मध्य प्रदेश में बीजेपी की नब्ज टटोलने जा रहे हैं. साथ ही मंथन इस बात पर भी होगा कि आखिर सीएए और एनआरसी के बाद के हालात में संघ प्रचारकों की क्या भूमिका हो सकती है. संघ का फोकस कॉलेज जाने वाले युवाओं पर भी है जिनके साथ सीधे मोहन भागवत संवाद कर रहे हैं. युवा संकल्प शिविर में संघ प्रमुख का संदेश गुना में चल रहे तीन दिन के युवा संकल्प शिविर में मोहन भागवत ने युवाओं के लिए जो संदेश दिया है उसके भी कई मायने निकाले जा रहे हैं. मोहन भागवत ने अपने संबोधन के दौरान कहा है कि आज के दौर में हर कोई नेता बनने की कोशिश कर रहा है लेकिन समाज को नेता नहीं बल्कि नायक की जरुरत है. कुछ लोग सामने आकर काम नहीं करते लेकिन वो नींव के पत्थर का काम करते हुए देश हित में जीवन लगा देते हैं. संघ प्रमुख का कार्यक्रम31 जनवरी से 2 फरवरी तक गुना में रहने के बाद संघ प्रमुख मोहन भागवत का 3 फरवरी से भोपाल का दौरा शुरु होगा. संघ प्रमुख भोपाल में 3 फरवरी को मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के जिला प्रचारकों की बैठक लेंगे. करीब पांच साल बाद ऐसा होगा जब संघ प्रमुख खुद इस बैठक में मौजूद रहेंगे. इसके बाद 4 फरवरी को मोहन भागवत दोनों प्रदेशों के विभाग प्रचारकों के साथ बैठक करेंगे. 5 और 6 फरबरी को मोहन भागवत संघ से जुड़े हुए आनुषांगिक संगठनों के प्रमुखों के साथ मंथन करेंगे. इनमें एबीवीपी, भारतीय मजदूर संघ, वीएचपी समेत 15 संगठन शामिल हैं. ये भी पढ़ेंः मध्य प्रदेश में मोहन भागवत बोले- देश को नेता नहीं नायक की है जरूरत।

If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

डिसक्लेमर :ऊपर व्यक्त विचार इंडिपेंडेंट NEWS कंट्रीब्यूटर के अपने हैं,
अगर आप का इस से कोई भी मतभेद हो तो निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखे।