धमतरी में तस्करों की नजर हाथी पर, वन विभाग चौकन्ना 

संक्षेप:

  • हाथी तस्करों की नजर अब धमतरी जिले में
  • ठहरे हाथियों पर हो सकती है नजर 
  • वन विभाग काफी चौकन्नाा है

धमतरी। प्रदेश में पिछले दो सालों से चंदा हाथी के दल के अलावा एक अन्य हाथी का दल धमतरी में आकर जंगलों व नदी किनारे घूम रहे है। जिससे समय-समय पर किसानों की फसल खाकर, रौंदकर और वनांचलवासियों के गांवों में कई तरह तोड़फोड़ कर नुकसान पहुंचाते हैं, इसकी खबर इंटरनेट मीडिया व अन्य माध्यमों से अन्य राज्यों में फैल गया है। ऐसे में हाथी तस्करों की नजर अब धमतरी जिले में ठहरे हाथियों पर हो सकती है, इसे लेकर वन विभाग काफी चौकन्नाा है। वर्ष 2016-17 के अप्रैल माह में पहली बार एक हाथी के साथ गरियाबंद क्षेत्र से होते हुए धमतरी जिला पहुंचा था, जो धमतरी के रूद्री बांध व रूद्री गांव में प्रवेश किया था, इससे ग्रामीणों में दहशत का माहौल बन गया था। इसके दो-तीन साल बाद हाथी नहीं आए, लेकिन वर्ष 2020 से हाथियों का दल आना शुरू हो गया, जो इन दिनों वनांचल क्षेत्रों में रहने वाले किसानों और ग्रामीणों के लिए सिरदर्द बन गया है। चंदा के दल में 19 हाथी और एक अन्य हाथी के दल में करीब 25 से अधिक हाथी धमतरी जिले में ठहरे हुए थे। फिलहाल चंदा हाथी का दल धमतरी छोड़कर बालोद जिले के जंगलों में घूम रहे है, लेकिन हाथियों का एक दल धमतरी जिले के जबर्रा क्षेत्र के जंगल के आसपास है, जिस पर वन विभाग की कड़ी नजर है।

हाथियों पर तस्करों से बचाव के लिए विशेष नजर 

डीएफओ सतोविशा समाजदार का कहना है कि धमतरी के नगरी ब्लाक में हाथियों का एक दल जबर्रा क्षेत्र में है। हाथी का लोकेशन स्पष्ट नहीं बताया जा सकता। इससे हाथियों को खतरा है, क्योंकि धमतरी जिले में दो हाथियों का दल लंबे समय से ठहरा है, ऐसे में तस्करों की नजर है। महाराष्ट्र, ओड़ीशा समेत अन्य जगहों से तस्करों के धमतरी आने की आशंका है, इसलिए वन विभाग की टीम लगातार हाथियों का लोकेशन लेता रहता है। वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारी जब से हाथी यहां ठहरे हैं, तब से रतजगा कर ड्यूटी करते हैं, ताकि हाथियों को किसी तरह कोई नुकसान न हो। यही वजह है कि मीडिया को भी हाथियों का स्पष्ट लोकेशन नहीं बताया जाता है। आशंका है कि हाथियों के दल पर कई अनजाने लोग भी नजर रखते हैं, जो तस्करों से संबंध रख रहा हो। हाथियों की निगरानी करते हुए धमतरी के जंगल में लगातार कीमती लकड़ी के तस्कर भी सामने आ रहे हैं।

ये भी पढ़े : अच्छी खबर: अब से नोएडा में ग्रामीण इलाके में होगी ऑक्सीजन भरने की सुविधा, पूरे जिले को पांच हिस्सों में बांटा गया 


 

 

 

 


 

If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

अन्य धमतरी की अन्य ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें और अन्य राज्यों या अपने शहरों की सभी ख़बरें हिन्दी में पढ़ने के लिए NYOOOZ Hindi को सब्सक्राइब करें।

Related Articles