स्वास्थ्य महकमें में मचा हड़कंप, महीनों बाद एक दिन में मिले 177 नए कोरोना मरीज

संक्षेप:

  • गोरखपुर में मिले 177 नए मामले
  • स्वास्थ्य महकमें में मचा हड़कंप
  • सात महीनों बाद मिले इतने संख्या में मामले

गोरखपुर- गोरखपुर जिले में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। मंगलवार को 177 नए मरीज मिले हैं। इनमें से कई लोगों की ट्रेवेल हिस्ट्री है। पिछले साल नौ अक्तूबर को 177 कोरोना संक्रमित मिले थे। इसके सात महीने के बाद मंगलवार को भी इसी संख्या में मरीज मिले हैं। बीआरडी मेडिकल कॉलेज के कोविड वार्ड में भर्ती शहर की रहने वाली 85 वर्षीय बुजुर्ग महिला की मौत हो गई।

सीएमओ डॉ. सुधाकर पांडेय ने बताया कि 177 मरीज मिलने के बाद जिले में संक्रमितों की संख्या 22424 तक पहुंच गई है। इनमें 21289 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। मौत का आंकड़ा 368 से बढ़कर 369 हो गया है। एक्टिव केस की स्थिति दिनोंदिन बढ़ती जा रही है। मौजूदा समय में 766 एक्टिव केस हैं। बताया कि शहरी थाना क्षेत्र में कुल 97 नए मरीज मिले हैं। सबसे अधिक शाहपुर में 34, कैंट 19, कोतवाली 17, गोरखनाथ 15, रामगढ़ताल आठ, तिवारीपुर और राजघाट में दो-दो मरीज मिले हैं।

ग्रामीण थाना क्षेत्र में 67 नए मरीज मिले हैं। इनमें चौरीचौरा, बेलघाट, पिपरौली, कौड़ीराम, गगहा, पाली में एक-एक, बांसगांव, सहजनवां, भटहट और कैंपियरगंज में दो-दो, सरदारनगर, बड़हलगंज में तीन-तीन, चरगांवा 14, खोराबार 18, गोला चार और उरुवा में पांच नए मरीज मिले हैं। इसके अलावा 13 मरीज अलग-अलग थाना क्षेत्रों के हैं। सीएमओ ने कहा कि लगातार मरीजों की संख्या बढ़ रही है। ऐसे में लोग सतर्क रहें और सुरक्षित रहते हुए कोविड प्रोटोकॉल का पालन करें।

ये भी पढ़े : लापरवाही: कोरोना मरीजों के ठीक होने के बाद दी गई मेडिकल किट


कमिश्नर जयंत नार्लिकर ने मंडल के सभी जिलाधिकारियों और मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देशित किया है कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को देखते हुए सभी विभागों में पुन कोविड हेल्प डेस्क बनाई जाए। इसकी सूचना सात अप्रैल तक दी जाए। कोविड हेल्प डेस्क के जरिये लोगों को कोरोना से बचाव की जानकारी दी जाए। इसमें लापरवाही होने पर कार्रवाई की भी बात उन्होंने कही।

If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

अन्य गोरखपुर की अन्य ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें और अन्य राज्यों या अपने शहरों की सभी ख़बरें हिन्दी में पढ़ने के लिए NYOOOZ Hindi को सब्सक्राइब करें।

Related Articles