बीजेपी नेता को किया गिरफ्तार, समर्थकों ने SO को बंधक बनाकर छुड़ाया

संक्षेप:

  • एसपी शालिनी के खिलाफ सोशल मीडिया पर अभद्र टिप्पणी
  • बीजेपी के महुआ मंडल अध्यक्ष बृजेश त्रिपाठी गिफ्तार
  • सीओ को बंधक बनाकर समर्थक जबरन छुड़ाकर ले गए

बांदा- यूपी में एक बार फिर बीजेपी नेताओं की दबंगई देखने को मिली है। मामला बांदा का है, जहां बीजपी नेता ने एसपी शालिनी के खिलाफ सोशल मीडिया पर अभद्र टिप्पणी की। जिसके चलते पुलिस ने बीजेपी नेता को गिरफ्तार किया। लेकिन पार्टी समर्थकों ने गिरफ्तारी का विरोध करते हुए सीओ को 3 घंटे तक बंधक बनाया और गिरफ्त से बीजेपी नेता को ले गए।

जानकारी के मुताबिक, मिर्जापुर के लिए स्थानांतरित पुलिस अधीक्षक (एसपी) शालिनी के खिलाफ पार्टी के महुआ मंडल अध्यक्ष बृजेश त्रिपाठी ने फेसबुक पर अभद्र टिप्पणी की थी। बांदा में तेरह माह का कार्यकाल बिताने वालीं स्थानांतरित एसपी ने बीजेपी नेता  के खिलाफ आईटी एक्ट में केस दर्ज करवाया था। मामला एसपी से जुड़ा होने के कारण पुलिस ने रात में ही बीजेपी पदाधिकारी को गिरफ्तार कर लिया।

जिसके बाद गुरुवार सुबह बृजेश त्रिपाठी को जेल भेजने की तैयारी के तहत नगर पुलिस उपाधीक्षक (सीओ) राघवेंद्र सिंह  अपनी सरकारी जीप में कोतवाली सदर बांदा ले गए। जहां बीजेपी नेता के समर्थकों की भीड़ जुट गई। भीड़ ने सीओ को तीन घंटे तक बंधक बनाए रखा  और त्रिपाठी को जबरन छुड़ा ले गए।  सीओ राघवेंद्र सिंह ने  बताया कि आरोपी बृजेश त्रिपाठी पर दर्ज सभी धाराएं जमानती हैं, इसलिए निजी मुचलका भरवा कर कोतवाली से छोड़ा गया है। अपर पुलिस अधीक्षक लाल भरत कुमार पाल ने कहा कि उन्हें इस घटना की कोई जानकारी नहीं है।`

ये भी पढ़े : राजस्थान HC का आदेश- जजों को नहीं कहें ‘माय लॉर्ड’ या ‘योर लॉर्डशिप’


बीजेपी बांदा जिलाध्यक्ष लवलेश सिंह और महामंत्री प्रेम नारायण द्विवेदी ने संयुक्त रूप से आरोप लगाया कि `पुलिस त्रिपाठी को बुधवार की देर रात गिरफ्तार कर अज्ञात स्थान पर ले गई थी, वहां बेरहमी से पिटाई की है। इस संबंध में त्रिपाठी ने सदर कोतवाली में बांदा में एसपी शालिनी को नामजद करते हुए अपहरण और हत्या की साजिश रचने की एक तहरीर भी दी है, लेकिन अभी तक मुकदमा दर्ज किया गया है।बीजेपी महामंत्री प्रेम नारायण द्विवेदी ने कहा कि शुक्रवार को विधानसभा क्षेत्र नरैनी, बबेरू और तिंदवारी के विधायक इस मुद्दे को एक साथ उठाएंगे।

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

अन्य गोरखपुर ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें
हिंदी में पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles