Lok Sabha Election 2019: कांग्रेस ने महाराजगंज सीट से न्यूज एंकर सुप्रिया सिंह श्रीनेत को दिया टिकट

संक्षेप:

  • कांग्रेस ने महाराजगंज सीट से न्यूज एंकर सुप्रिया सिंह श्रीनेत को दिया टिकट
  • पिछले 10 साल से  वो एक टीवी चैनल में वह कार्यकारी संपादक के पद पर काम कर रही हैं
  • सुप्रीया सिंह श्रीनेत के पारिवारिक पृष्ठभूमि पर नजर डाले तो पिता की मजबूत राजनैतिक विरासत है

महाराजगंज: कांग्रेस पार्टी ने नौतनवां से विधायक अमन मणि त्रिपाठी की बहन तनुश्री त्रिपाठी को बड़ा झटका दिया है. कांग्रेस ने शुक्रवार को घोषित की गई सूची में तनुश्री के स्थान पर महराजगंज से कांग्रेस के पूर्व सांसद रहे स्व. हर्षवर्धन सिंह की बेटी सुप्रिया सिंह श्रीनेत को टिकट दिया है. सुप्रिया एक अंग्रेजी टीवी चैनल में वरिष्ठ संपादक के पद पर कार्यरत रहीं हैं.

कांग्रेस प्रत्याशी सुप्रिया सिंह श्रीनेत का जन्म फरवरी 1977 में हुआ. उनकी स्कूली शिक्षा लॉरेटो कॉन्वेंट लखनऊ से हुई है. ग्रैजुएट और पोस्ट ग्रैजुएट दिल्ली विश्वविद्यालय की हैं. राजनीति विज्ञान में एम. ए. करने के बाद करियर की शुरुआत एक टीवी चैनल से की. पिछले 10 साल से एक टीवी चैनल में वह कार्यकारी संपादक के पद पर काम करती रहीं. इनके पति धीरेंद्र सिंह एक प्राइवेट कंपनी में ऊंचे पद पर कार्यरत हैं. छात्र जीवन से वह प्रतिभाशाली रहीं. वह लॉरेटो कॉन्वेंट की हेड गर्ल भी रहीं. स्वामी विवेकानंद व भगत सिंह को अपना आदर्श मानती हैं और अपने पिता की तरह संघर्षशील हैं. पिता के संघर्षों को महराजगंज में जिंदा रखने के लिए राजनीति में आई हैं.

24 घंटे के अंदर कांग्रेस की दूसरी सूची जारी होने के बाद सियासी गलियारे में भी हलचल मच गया. एक तरफ तन्नू श्री का टिकट कटा तो दूसरी ओर सुप्रिया का टिकट घोषित हुआ. यह खबर जैसे ही महराजगंज शहर में पहुंची तो शहर में उनके कार्यालय पर समर्थकों ने खुशी की इजहार किया. ढ़ोल बजाकर सभी ने स्वर्गीय हर्षबर्धन के संर्घषों को याद करते हुए एक दूसरे को मिठाई खिलाया.

ये भी पढ़े : कन्नौज की रैली में डिंपल यादव ने मायावती के छुए पैर


सुप्रीया सिंह श्रीनेत के पारिवारिक पृष्ठभूमि पर नजर डाले तो पिता की मजबूत राजनैतिक विरासत है. उनके संघर्षों की बुनियाद पर वह जनता के बीच अपना भाग्य आजमाएंगी. पिता हर्षवर्धन वर्ष 1889 और वर्ष 2009 में कांग्रेस के टिकट पर सांसद चुने गए थे. वर्ष 1885 से 89 तक फरेंदा के विधायक भी रहे. 4 अक्टूबर 2016 को उनका निधन हो गया. 2 अगस्त 2015 को सुप्रीया के भाई राज्यवर्धन सिंह का भी निधन हो गया.

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

अन्य गोरखपुर ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें
हिंदी में पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles