गोरखपुर: डॉक्टर कफील ने दी धमकी, पीड़ित ने पुलिस से लगाई सुरक्षा की गुहार

गोरखपुर में चर्चित डॉक्टर कफील खान एक बार फिर विवादों में हैं. सोमवार को डॉ कफील और उसके भाई आदिल खान पर मुजफ्फर आलम नाम के एक शख्स ने धमकी देने का आरोप लगाया है. पीड़ित का कहना है कि कफील के भाई आदिल पर जालसाजी का केस दर्ज कराने पर उसे धमकी मिल रही है. डॉक्टर कफील और आदिल केस वापसी को लेकर दबाव बना रहे हैं. साथ ही केस वापस नहीं करने पर जानमाल की धमकी दे रहे हैं. यह भी पढ़ें: CM योगी से मिले डॉ. कफील के भाई, हमलावरों के खिलाफ कार्रवाई की मांग दरअसल राजघाट थाना के रहने वाले शेखपुर निवासी मुजफ्फर आलम ने डॉ कफील और उनके भाई आदिल पर धमकी देने का आरोप लगाया है. दिलचस्प है कि डॉ कफील खान के भाई आदिल खान ने फर्जी खाते के जरिए दो करोड़ का ट्रांसजेक्शन किया था. इतना ही नहीं खाते में पीड़ित शख्स की फोटो का इस्तेमाल किया गया था. जबकि फैजान के नाम का इस्तेमाल किया गया था. शहर के सुमेर सागर स्थित यूनियन बैंक की शाखा में साल 2004 में फर्जी खाता खोला गया था. यह भी पढ़ें: गोरखपुर: डॉ. कफील खान के भाई को बाइक सवार बदमाशों ने मारी गोली  वहीं साल 2014 में इस बात की जानकारी होने पर युवक ने ऐतराज जताया था. जिस पर अदील खान ने अपने रसूख का इस्तेमाल करते हुये उसे फर्जी मामले में फंसाकर जेल भेज दिया था. वहीं पीड़ित लगातार अपने ऊपर हुये अत्याचार के खिलाफ लड़ाई लड़ रहा है. दरअसल, आरोप है कि अदील और फैजान ने साल 2009 में यूनियन बैंक में फर्जी खाता खुलवाया था. यह खाता फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस के जरिए खोला गया था. सीओ कोतवाली की जांच में मामला सही पाया गया. जिसके बाद एसएसपी के आदेश पर अदील और फैजान पर कैंट थाने में केस दर्ज कर पुलिस तफ्तीश में जुट गई है. यह भी पढ़ें: डॉ. कफील के भाई का आरोप- फायरिंग केस में हमारे ही करीबियों को फंसा रही पुलिस बता दें कि पिछले दिनों ही डॉ कफील के भाई कासिफ पर जानलेवा हमला किया गया था. इस हमले के बाद डॉ कफील ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए थे. कफील का आरोप था कि पुलिस असली अपराधियों को पकड़ने की जगह उनके करीबियों को ही परेशान कर रही है. दरअसल, गत शनिवार को पुलिस ने कासिफ के करीबी आशीष राज श्रीवास्तव उर्फ भोलू को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था. जिसके बाद पुलिस की थर्ड डिग्री का एक वीडियो भी वायरल हुआ था. मामले में अदिल का आरोप था कि 'पुलिस हमारे ही करीबी लोगों को पकड़ रही है और उन पर दबाव बनाकर फायरिंग की बात कबूलवाने की कोशिश कर रही है. हम और हमारा परिवार इसका विरोध करते हैं.' यह भी पढ़ें: जौनपुर: मुन्ना बजरंगी के गांव में पसरा सन्नाटा, परिजन बोले- चला गया मेरा शेर अखिलेश का बीजेपी पर निशाना, कहा- ये है कैंची वाली सरकार, हमारे कामों का काट रही फीता नोएडा में सैमसंग की मोबाइल फैक्ट्री से मिलेगा 70 हजार रोजगार।

डिसक्लेमर :ऊपर व्यक्त विचार इंडिपेंडेंट NEWS कंट्रीब्यूटर के अपने हैं,
अगर आप का इस से कोई भी मतभेद हो तो निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखे।

अन्य गोरखपुर ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें
हिंदी में पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles