गोरखपुरः आईपीएस चारू और डॉ अग्रवाल बीच विवाद बना खाकी बनाम खादी की लड़ाई

  • Pinki
  • Tuesday | 9th May, 2017
संक्षेप:

  • आईपीएस एसोसिएशन  ने दिया आईपीएस चारू निगम का साथ
  • अभद्रता को लेकर मुख्य सचिव को सौंपा ज्ञापन
  • मामले में जीरो टॉलरेंस की कही बात

गोरखपुरः गोरखपुर में आईपीएस चारु निगम और विधायक डॉ.राधा मोहनदास अग्रवाल के बीच का विवाद अब सोमवार लड़ाई में तब्दील हो चुका हैं। इस कड़ी में आईपीएस एसोसिएशन ने मुख्य सचिव राहुल भटनागर से मिलकर सहारनपुर में एसएसपी के बंगले पर हमले और गोरखपुर में आईपीएस से अभद्रता की घटनाओं पर कार्रवाई की मांग की है

आईपीएस एसोसिएशन के अध्यक्ष डीजी प्रवीण सिंह, सचिव आईजी प्रकाश डी. और डीआईजी अपर्णा कुमार ने सोमवार को मुख्य सचिव को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में कहा गया कि हाल ही में पुलिस पर हुए हमलों और जनप्रतिनिधियों के अमर्यादित व्यवहार से असोसिएशन को ठेस पहुंचा है।

अगर पुलिस अधिकारियों के साथ सार्वजनिक रूप से इस तरह की घटनाएं होंगी तो पुलिस को काम करने में दिक्कत आएगी और कानून का राज कायम करने में परेशानी आएगी। सरकार ऐसे मामलों में जीरो टॉलरेंस अपनाए। मौके पर मौजूद साक्ष्यों के मुताबिक दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाए।

ये भी पढ़े : खुली बैठक में विकास कार्यों का खाका तैयार


सचिव आईजी प्रकाश डी. के मुताबिक, मुख्य सचिव ने महिला अधिकारी के साथ हुए बदसलूकी को अशोभनीय बताते हुए शिकायत को सीएम के संज्ञान में लाने और उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है। इसके अलावा, चिलुआताल के कोइलहवा गांव में रविवार को हुए हंगामे के मामले में फर्टिलाइजर चौकी इंचार्ज वीरेन्द्र यादव की तहरीर पर 6 महिलाओं पर नामजद और 50 अन्य महिलाओं पर आईपीसी की धारा के तहत केस दर्ज हो गया है।

आईजी मोहित अग्रवाल ने बताया कि एफआईआर में एमएलए डॉ.राधा मोहनदास अग्रवाल नामजद नहीं हैं। घटना की समय से सूचना न देने, तत्काल कारवाई न करने पर एसएसपी गोरखपुर व सीओ गोरखनाथ चारु निगम से स्पष्टीकरण मांगा है।

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

अन्य गोरखपुर ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें
हिंदी में पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles