गोरखपुर : अब ट्रेन में अपराधियों का एलबम लेकर चलेगी आरपीएफ

  • गोरखपुर : अब ट्रेन में अपराधियों का एलबम लेकर चलेगी आरपीएफ

    संक्षेप:

    • आरपीएफ बना रही है अपराधियों का एलबम
    • दस साल के वांक्षित अपराधियों का एलबम में होगा फोटा व ब्यौरा
    • सभी आरपीएफ पोस्ट्स के वांक्षित अपराधियों का सेंट्रालाइज्ड एलबम

    रिपोर्ट : सुनील वर्मा

    गोरखपुर। ट्रेनों में होने वाले अपराध पर अंकुश लगाने के लिए आरपीएफ ने एक नई पहल की है। इससे चलती ट्रेन में पैसेंजर्स बनकर जहरखुरानी या लूटपाट की घटनाओं को अंजाम देना अब अपराधियों के आसान नहीं होगा। इसके लिए आरपीएफ की ओर से अपराधियों का एलबम तैयार किया जा रहा है। जिसे ट्रेन में चलने वाली आरपीएफ की स्कॉट पार्टी अब हमेशा अपने साथ लेकर चलेगी। इतना ही नहीं इस एलबम में अपराधियों का फोटो और आपराधिक इतिहास भी दर्ज होगा। जिससे कि स्कॉट पार्टी के जवान उन्हें घटना को अंजाम देने से पहले ही पहचान कर कार्रवाई कर सकेंगे। इसके लिए एनई रेलवे के चीफ सिक्योरिटी कमिश्नर राजाराम के निर्देश पर अपराधियों के एलबम बनाने का काम शुरू भी कर दिया गया है।

    दरअसल चलती ट्रेन में अपराधी पैसेंजर्स के बीच पैसेंजर्स बनकर पहले उन्हें अपनी जाल में फंसाते हैं। फिर खाने-पीने की चीजों में नशीला पाउडर आदि मिलाकर उनके साथ जहरखुरानी कर लूटपाट की घटनाओं को अंजाम देते हैं। ऐसे में मौके पर उन्हें पहचान पाना या उन्हें चिन्हित कर कार्रवाई कर पाना आरपीएफ व जीआरपी के लिए आसान नहीं होता। इसे देखते हुए अब आरपीएफ की ओर से बीते दस साल के ऐसे अपराधियों का ब्योरा जुटाया जा रहा है जोकि पहले इस तरह की घटनाओं को अंजाम दे चुके हैं।

    ऐसे में आरपीएफ की ओर से इस तरह के अपराधियों की पूरी डिटेल जुटाकर एलबम बनाने का काम शुरू भी कर दिया गया है। इसके लिए आरपीएफ के सभी पोस्ट के वांक्षित अपराधियों की डिटेल मंगाई जा रही है. इसके बाद इनकी सेंट्रलाइज्ड एलबम तैयार की जाएगी। जो आरपीएफ पोस्ट्स पर तो रहेगी ही साथ ही ट्रेनों में चलने वाले स्काट पार्टी के जवान इसे अपने साथ लेकर चलेंगे। इससे अगर ट्रेन में इन एलबम में दर्ज अपराधी दिखाई दिए तो तत्काल उनपर कार्रवाई की जा सकेगी। आईजी आरपीएफ राजाराम ने बताया कि ट्रेनों में होने वाले अपराध पर अंकुश लगाने के लिए अपराधियों का एलबम तैयार कराया जा रहा है। जिसे स्कॉट पार्टी के जवान अपने साथ लेकर चलेंगे। इससे अपराध होने से पहले ही उनपर अंकुश लगाया जा सकेगा। पैसेंजर्स की सुरक्षा के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं।

    जरूर पढ़ें

    - मच्छरों ने निजात दिलाने के लिए नगर निगम ने 40 नई फागिंग मशीनें मंगाई गई हैं। इनमें 38 छोटी और 2 बड़...
    । उत्तर भारत के कई शहरों की तरह भी धीरे-धीरे जहरीले प्रदूषण की ओर बढ़ रहा है। अगर आंकड़ों पर नजर डा...

    न्यूज़ सोर्स: NYOOOZ HINDI