गोरखपुर हिंसा के गुनाहगारों की तस्वीर आई सामने, पुलिस ने जारी करते कहा- पहचानने वालों को मिलेगा इनाम

संक्षेप:

  • जुमे की नमाज के बाद शुक्रवार को गोरखपुर में हुए हिंसक प्रदर्शन के गुनहगारों की पहचान हो गई है.
  • उपद्रवियों/पथराव करने वालों में शामिल लोगों की तस्वीरें जारी की गई हैं.
  • सभी लोग इन्हें पहचानें और इन व्यक्तियों की सूचना पुलिस को निम्न नम्बरों ( Sho कोतवाली 9454403517, Co कोतवाली 9454401411, Sp City 9454401054) पर दें

गोरखपुर: जुमे की नमाज के बाद शुक्रवार को गोरखपुर में हुए हिंसक प्रदर्शन के गुनहगारों की पहचान हो गई है। उपद्रवियों/पथराव करने वालों में शामिल लोगों की तस्वीरें जारी की गई हैं। सभी लोग इन्हें पहचानें और इन व्यक्तियों की सूचना पुलिस को निम्न नम्बरों ( Sho कोतवाली 9454403517, Co कोतवाली 9454401411, Sp City 9454401054) पर दें, सूचना देने वाले व्यक्ति का नाम पता गोपनीय रखा जायेगा एवं उचित इनाम दिया जायेगा।

पुलिस ने मामले में अब तक 22 लोगों को पकड़ा गया है। इस बात की पुष्टि खुद एसएसपी सुनील गुप्ता ने की है। गौरतलब है कि बीते दिन गोरखपुर में हिंसक प्रदर्शन हुआ। प्रदर्शनकारियों ने जबरदस्त पथराव किया और पीएसी के एडिशनल एसपी की गाड़ी का शीशा तोड़ डाला। दुकान, वाहनों में तोड़फोड़ की गई। पथराव में दो पुलिस कर्मियों से पांच लोगों को गंभीर चोटें आई हैं। उग्र भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया। आंसू गैस के गोले छोड़े गए। इससे अफरातफरी मच गई।

ये भी पढ़े : इंजीनियरिंग के स्टूडेंट ने 5 साल की बच्ची के साथ की छेड़खानी, पोर्न देखने का है आदी


नाबालिग कर रहे थे उपद्रव की अगुवाई, परिजन चिंतित

प्रदर्शन और पथराव की अगुवाई में अधिकांश नाबालिग ही थे। वे पत्थर चलाने से लेकर नारेबाजी और काली पट्टी बांधने में सक्रिय दिखे। जबकि उनके परिजन परेशान रहे। वे फोन कर अपने बच्चों की लोकेशन जानते रहे और उन्हें घर बुलाते रहे। लेकिन नाबालिगों ने परिजनों की एक नहीं सुनी। ऐसा लगा कि उन्हें किसी ने बरगलाया है, जिसके चलते उनके सिर पर विरोध प्रदर्शन का जुनून सवार था।

पहले से ही थी तैयारी

जुमे की नमाज के बाद विरोध-प्रदर्शन की तैयारी पहले से ही थी, इसलिए शाहमारूफ सहित तमाम मोहल्लों में दुकानें बंद कर लोग नमाज के लिए पहुंचे। वहां सुबह से ही कुछ युवक तिरंगा लेकर खड़े थे। काली पट्टी भी रखी गई थी। जो नमाज करने आता, उसके सिर या फिर हाथ में काली पट्टी बांधी जाती। हालांकि एसपी सिटी और एसडीएम सदर लोगों को रोकरोक कर समझाते भी रहे, लेकिन युवक पुलिस के सामने केवल नमाज में विलंब की बात करते रहे। बड़ी मस्जिद में नमाज के बाद सैकड़ों की संख्या में युवा जुलूस की शक्ल में निकल गए। इसके बाद हालात बेकाबू हो गए।

इन इलाकों में अघोषित कर्फ्यू जैसा माहौल

शुक्रवार सुबह से ही नखास, रेती रोड, मदीना मस्जिद चौक, शाहमारूफ, घंटाघर, बसंतपुर, तुर्कमानपुर, जाफरा बाजार, इलाहीबाग सहित कोतवाली, तिवारीपुर और राजघाट इलाके के कई मोहल्लों में सुबह से ही दुकानें बंद रहीं। ऐसा लगा कि अघोषित कर्फ्यू है। अधिकांश युवा सड़कों पर जगह-जगह नारेबाजी करते रहे। पथराव, लाठीचार्ज व आंसू गैस छोड़े जाने के बाद सड़कें पूरी तरह खाली हो गईं। घरों के दरवाजे बंद हो गए। लोग छतों और खिड़कियों से झांकते नजर आए। केवल पुलिस और अधिकारियों की गाड़ियों के सायरन ही सुनाई देते रहे।

एडिशनल एसपी की गाड़ी का कांच टूटा

नखास चौक पर ड्यूटी कर रहे पीएसी के एडिशनल एसपी राजेश भारती की कार को भी उपद्रवियों ने निशाना बना लिया। दरअसल, पथराव के बीच उनका चालक गाड़ी को लेकर कोतवाली थाने की ओर जाने लगा। इसी दौरान एक घर की छत से चले पत्थर से उनकी कार का कांच टूट गया। साथ ही उपद्रव के दौरान दो से तीन मोटरसाइकिलें क्षतिग्रस्त हो गईं।

पुलिस और प्रशासन के आला अधिकारी अलग-अलग करते रहे गश्त

हिंसक प्रदर्शन के बाद नखास, रेती, घंटाघर सहित तमाम इलाकों में एडीजी रेंज, कमिश्नर, डीएम, एसएसपी सहित तमाम अधिकारी व थानेदार अलग-अलग टुकड़ियों में गश्त करते रहे। वहीं, पुलिस की रिजर्व टीम रात में भी इन इलाकों में गश्त करती रही।

नखास चौक पर तीनों ओर से घिर चुकी थी पुलिस

नमाज के बाद युवा प्रदर्शनकारियों का हुजूम टुकड़ियों में अलग-अलग रास्तों से निकल गया। इसकी सूचना पर एसपी सिटी और एसडीएम सदर कुछ प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए नखास चौक पहुंच गए। दोपहर 2.30 बजे रेती चौराहे से नखास आने वाले रास्ते पर जुलूस का एक जत्था आया और नारेबाजी करते हुए आगे जाने की जिद पर अड़ गया।

पुलिस अभी उन्हें समझा ही रही थी कि साहबगंज से नखास आने वाले रास्ते और बक्शीपुर की ओर से भी भीड़ आ गई। इस दौरान पुलिस पर भीड़ हावी होने लगी। इस बीच कुछ लागों ने पत्थर चलाने शुरू कर दिए। इसके बाद पुलिस ने लाठियां भांजीं। पुलिस की कार्रवाई के बाद छिप-छिप कर तीनों सड़कों और छतों से ईंट पत्थर चलाए गए। जवाब में पुलिस ने भी पत्थर चलाना शुरू कर दिया। करीब 20 मिनट तक पथराव हुआ।
डीएम और एसएसपी पूरे दिन करते रहे शांति की अपील

सुबह से ही डीएम और एसएसपी सोशल मीडिया पर वीडियो जारी कर लोगों से शांति की अपील करते रहे। बवाल के बाद भी अधिकारी अपील करते रहे। डीएम, एसएसपी सहित तमाम अधिकारी भ्रमण करते रहे।

नखास इलाके में क्या हो रहा?

नखास इलाके में क्या हो रहा है यह जानने के लिए उन इलाकों के लोग परेशान रहे जहां सबकुछ शांत रहा। वे घोष कंपनी चौराहे, बक्शीपुर, बैंकरोड आदि चौराहे पर खड़े होकर नखास की ओर से आने वाले लोगों से जानकारी लेते रहे।

पुलिस और उपद्रवियों के बीच चलता रहा गुरिल्ला वार

नखास चौक के चारों ओर की सड़कों पर सौ मीटर दूर तक चारों ओर से उपद्रवियों ने गुरिल्ला वार के अंदाज में पथराव किया। ईंट चलाने के बाद संकरी गलियों में उपद्रवी छिप जा रहे थे। वहीं से रह-रह कर छतों से करीब 20 मिनट तक पथराव होता रहा।

If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

अन्य गोरखपुर ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें
हिंदी में पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles