गोरखपुर में लगी सैनिटरी पैड वेंडिंग मशीन की फैक्ट्री

संक्षेप:

  • गर्ल्‍स कॉलेजों में लगीं सैनिटरी पैड वेंडिंग मशीनें
  • गोरखपुर में लगी फैक्‍ट्री
  • करीब 100 करोड़ रूपये के निवेश का लक्ष्य

गोरखपुर: किशोरावस्था में लड़कियों में माहवारी आना उनके मातृत्व की ओर बढ़ने की प्राकृतिक प्रक्रिया है और इस दौरान उन्हें उचित मार्गदर्शन के साथ ही स्वच्छ सैनेटरी पैड मिलना एक बुनियादी जरूरत है, लेकिन अपने आप में दुखदायी तथ्य यह है कि हमारे देश में बड़ी संख्या में लड़कियां माहवारी के समय कपड़ा, टाट, रेत या राख आदि का इस्तेमाल करती हैं, जो स्वास्थ्य और स्वच्छता की दृष्टि से ठीक नहीं है।

एक अध्ययन के अनुसार देश में ज्यादातर लड़कियों को माहवारी आने से पहले इस प्रक्रिया के बारे में पता ही नहीं होता क्योंकि इस बारे में बात करना अच्छा नहीं माना जाता। यही वजह है कि कठिनता से भरे इन चार पांच दिनों में उनकी बुनियादी जरूरत को पूरा करने पर भी ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता।
 

सरकारी स्तर पर और विभिन्न गैर सरकारी संगठनों के साथ ही ‘पैडमैन’ जैसी फिल्म बनाकर बॉलीवुड भी हालात को बेहतर बनाने के लिए योगदान दे रहा है। सैनेटरी पैड बनाने वाली कंपनी नाइन ने भारत में इन्हीं प्रयासों को आगे बढ़ाते हुए महिलाओं को माहवारी के दौरान स्वच्छता के प्रति जागरूक करने और बहुत कम कीमत पर सैनेटरी पैड उपलब्ध कराने का बीड़ा उठाया है।

ये भी पढ़े : बरेली में छेड़खानी करना पड़ा महंगा, सड़क पर ही लड़के की पिटाई


कंपनी ने रक्षा बंधन और शिक्षक दिवस पर इस दिशा में विशेष कार्यक्रमों का आयोजन किया। इसी श्रृंखला में उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में किशोरियों और महिलाओं में माहवारी के दौरान स्वच्छता के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिये विशेष अभियान शुरू किया गया है। अभियान के तहत छात्राओं के कालेजों में सैनेटरी पैड की वेंडिंग मशीनें लगायी जा रही है।

फिलहाल दिल्ली, आगरा और इलाहाबाद के कालेजों में सैनिटरी पैड की 130 वेडिंग मशीनें लगाई गई हैं और धीरे इनका दायरा बढ़ाया जाएगा। इसके अलावा महिला कार्यकर्ता दूरदराज के गांवों में महिलाओं को सैनिटरी पैड के इस्तेमाल के बारे में जानकारी दे रही हैं।

नाइन मूवमेंट और नाइन पैड की मुख्य कार्यकारी अधिकारी रिचा सिंह ने विशेष बातचीत में कहा, हाल ही में आपने डाटर्स डे पर टेलीविजन पर नाइन पैड के विज्ञापन में एक पिता को अपनी बेटी से सैनिटरी पैड के इस्तेमाल के बारे में बात करते हुए झिझकते देखा होगा। हमारा उद्देश्य सैनिटरी पैड के बारे में समाज में व्याप्त इसी झिझक को मिटाना है। देश की तकरीबन 50 फीसद महिलायें सैनेटरी पैड का इस्तेमाल नहीं करतीं और इनमें सिर्फ ग्रामीण इलाकों की ही नहीं बल्कि शहरी महिलाओं की तादाद भी काफी ज्यादा है।

उन्होंने बताया कि नाइन पैड आंदोलन के तहत उत्तर प्रदेश के लखनऊ, गोरखपुर, कानपुर, आगरा, सीतापुर, फिरोजाबाद जिलों के ग्रामीण इलाकों में पिछले दो महीनो में करीब 50 हजार किशोरियों और महिलाओं को माहवारी के दौरान स्वच्छता के प्रति जागरूक करने के साथ ही सैनेटरी पैड के इस्तेमाल का महत्व समझाया गया है । सह बताती हैं कि इस काम में स्वयं सेवी संस्थाओं की महिला कार्यकर्ताओं, आगंनवाड़ी कार्यकर्ताओ और आशा कार्यकर्ताओं की भी मदद ली जा रही है । महिला कार्यकर्ता घर घर जाकर किशोरियों और महिलाओं को जागरूक करने का ष्काम कर रही हैं।

सिंह ने बताया, ‘‘ हम स्वंय सेवी संस्थाओं की मदद से किशोरियों और महिलाओं को उनके घर या स्कूल पर जो पैड का पैकेट उपलब्ध करा रहे हैं, उसकी कीमत मात्र पन्द्रह रूपये है। इस जागरूकता अभियान को जल्द ही पश्चिम बंगाल, झारखंड, बिहार और हरियाणा में भी शुरू किया जायेगा ।’’ कंपनी ने कुछ माह पहले मेंक इन इंडिया अभियान तहत गोरखपुर में एक फैक्टरी की स्थापना की है, जिसमें अगले दो से तीन साल में करीब 100 करोड़ रूपये के निवेश का लक्ष्य है । कंपनी ने इसी वर्ष फरवरी में उप्र में हुई इन्वेस्टर्स समिट में प्रदेश सरकार के साथ अस्सी करोड़ रूपये के एमओयू :समझौता पत्र: पर हस्ताक्षर भी किये थे।

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

अन्य गोरखपुर ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें
हिंदी में पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles