यात्रियों ने ट्रेनों से गायब किए 1.95 लाख तौलिये, 81,736 चादरों सहित लाखों के सामान

संक्षेप:

  • 1 साल में 2 लाख तौलिये चोरी, मग-नल भी गायब
  • अप्रैल से सितंबर 2018 तक हुई लगभग 62 लाख रुपये के सामानों की चोरी
  • चोरी से बड़ी मात्रा में हुआ रेलवे को नुकसान

अगर आप भी ट्रेन से यात्रा करते हैं तो अकसर रेलवे स्टेशनों पर यह घोषणा सुना होगा, `रेलवे आपकी संपत्ति है...`। आंकड़ों पर नजर डालें तो पता लगता है कि कुछ लोगों ने इस बात को ज्यादा गंभीरता से ले लिया है और वे रेल यात्रा के दौरान मिलने वाले सामान को अपनी संपत्ति समझ अपने साथ ही ले जाते हैं। 

पश्चिम रेलवे ने जो आंकड़े जारी किए हैं, उनके मुताबिक पिछले वित्तीय वर्ष में 1.95 लाख तौलिये लंबी दूरी की ट्रेनों से चुरा ली गईं। यही नहीं, 81,736 चादरें, 55,573 तकिया के कवर, 5,038 तकिया और 7,043 कंबल भी चुराए जा चुके हैं।

इनके अलावा 200 टॉइलट मग, 1000 टैप और 300 से ज्यादा फ्लश पाइप भी हर साल चुराए जाते हैं। मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुनील उदासी ने बताया कि अप्रैल से सितंबर 2018 के बीच 79,350 तौलिये, 27,545 चादरें, 21,050 तकिया के कवर, 2,150 तकिया और 2,065 कंबल चुराए गए जिनकी कुल कीमत लगभग 62 लाख लगाई गई है।

ये भी पढ़े : बरेली में छेड़खानी करना पड़ा महंगा, सड़क पर ही लड़के की पिटाई


बताया गया है कि पिछले 3 वित्तीय वर्षों में भारतीय रेलवे को 4000 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है जिनमें बड़ी मात्रा चोरी की वजह से हुए नुकसान की है। गौरतलब है कि चादर और दूसरी ऐसी चीजों का नुकसान कोच अटेंडेंट को भरना पड़ता है जबकि बाथरूम के सामान की भरपाई रेलवे को करनी होती है।

बताया गया है कि हर बेडशीट की कीमत 132, तौलिया की 22 और तकिया की 25 होती है। एक सूत्र के मुताबिक, यह देखना कोच अटेंडेंट की जिम्मेदारी होती है कि हर यात्री सारा सामान वापस कर गया है। कई ट्रेनों में सेंसर-टैप और सीसीटीवी जैसी सुविधाएं होती हैं लेकिन वह एक यात्रा तक भी टिक नहीं पातीं। रेलवे इन सेवाओं को सस्ते विकल्पों से बदल देता है। वहीं, पश्चिम रेलवे के पीआरओ रविंदर भाकर ने इन चोरियों को शर्मनाक बताते हुए कहा कि कुछ ट्रेनों में ट्रायल बेसिस पर डिस्पोजबल तौलिया और तकिया के कवर दिए गए हैं। 

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

अन्य गोरखपुर ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें
हिंदी में पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles