सीहोर, पीसीसी अध्यक्ष पद को लेकर एमपी में ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindhiya) के समर्थक नेता कार्यकर्ता खासे सक्रिय हैं

अपने नेता को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनवाने के लिए इन लोगों ने इस्तीफे की पेशकश की, आंदोलन की चेतावनी दी और प्रदेश में पोस्टर लगवाए. अब उनके समर्थक प्रदेश प्रवक्ता विजय सैनी ने उनके लिए 24 घंटे के रामायण पाठ (Ramayan Recitation) का आयोजन किया है. उन्होंने सिंधियाजी के लिए एक स्तुति गान (Praise song) भी बनाया है जिसमें उन्हें मसीहा बताया गया है. सिंधिया का स्तुति गान मध्य प्रदेश की राजनीति में मचे घमासान का असर अब सड़क पर भी नजर आने लगा है. प्रदेश में कांग्रेस के तीसरे ध्रुव कहलाने वाले कांग्रेस के महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया की प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में ताजपोशी के लिए उनके समर्थक मंत्री, कांग्रेस पदाधिकारी और कार्यकर्ता एड़ी चोटी का जोर लगाकर उन्हें पीसीसी चीफ देखना चाहते हैं. इसी कड़ी में सीहोर नसरुल्लागंज के गांव पाचौर में कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता विजय सैनी ने 24 घंटे का रामायण पाठ आयोजित कर भगवान से सिंधिया को पीसीसी चीफ बनाने की कामना की. इस दौरान सिंधिया जी की स्तुति गान कर उन्हें प्रदेश का मसीहा बतलाया गया. समर्थकों ने सिंधिया को पीसीसी अध्यक्ष बनाने के लिए रामायण पाठ कराया पीसीसी चीफ के रूप में सिंधिया स्थानीय लोगो ने खूब चटखारे लेकर धर्म और राजनीति के इस अनूठे घाल मेल का लुत्फ उठाया. आयोजन के मकसद के विषय में पूछे जाने पर आयोजक कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता विजय सैनी ने कहा कि हमे पीसीसी चीफ के रूप में सिंधियाजी ही चाहिए. हालांकि पिछले दिनों सीएम कमलनाथ ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने के बाद इस बात के संकेत दिए थे कि जल्द ही प्रदेश के नए कांग्रेस अध्यक्ष के नाम की घोषणा की जाएगी. ये भी पढ़ें - अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति उम्मीदवार और पूर्व खुफिया प्रमुख का दावा- पाकिस्तान के ISIS से रिश्तों के पुख्ता सुबूत हैं दुनिया का सबसे खतरनाक हेलिकॉप्टर है अपाचे, पल भर में दुश्मन का कर देता है खात्मा VIDEO: TikTok वीडियो बनाने के लिए शख्स ने खुद की जीप में लगाई आग, पुलिस ने कर लिया गिरफ्तार।

If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

डिसक्लेमर :ऊपर व्यक्त विचार इंडिपेंडेंट NEWS कंट्रीब्यूटर के अपने हैं,
अगर आप का इस से कोई भी मतभेद हो तो निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखे।