लग्जरियस लाइफ जीते हैं कम्प्यूटर बाबा, हेलीकॉप्टर से देने जाते हैं प्रवचन

संक्षेप:

  • कम्प्यूटर बाबा दिगंबर अखाड़े के हैं
  • बाबा का इंदौर के अहिल्या नगर में आश्रम है
  • वो रहते तो कुटिया में हैं, लेकिन चलते हेलिकॉप्टर से हैं

कम्प्यूटर बाबा इन दिनों मध्य प्रदेश के राजनीतिक जगत में चर्चा का विषय बन हुए हैं. कभी शिवराज चौहान सरकार द्वारा राज्य मंत्री का दर्जा पाने के बाद अब वे शिवराज सिंह चौहान और बीजेपी के खिलाफ उतर आए हैं और कांग्रेस के समर्थन का भी ऐलान कर दिया.

बाबा ने खुलकर बीजेपी के विरोध का एलान किया और कांग्रेस को सत्ता में आने का आशीर्वाद देते रहे. उन्होंने मध्य प्रदेश के कई शहरों में संत समागम किया. उसमें खुलकर शिवराज सरकार को हटाने और कांग्रेस का समर्थन करने की अपील की थी. समय औऱ सरकार बदली.

ये भी पढ़े : राहुल ने किया चिदंबरम का बचाव, लिखा- सत्ता का गलत इस्तेमाल कर रही मोदी सरकार


मध्य प्रदेश में कांग्रेस सत्ता में आयी और कम्प्यूटर बाबा को मां नर्मदा-मां क्षिप्रा और मां मंदाकिनी रिवर ट्रस्ट का चेयरमैन नियुक्त कर दिया गया. अब बाबा फ्रंटफुट पर हैं. पूरी तरह कांग्रेस के साथ हैं. लगातार बीजेपी और मोदी सरकार के खिलाफ बोल रहे हैं.

ये तक कह चुके हैं राम मंदिर नहीं तो मोदी सरकार नहीं. दरअसल बाबा का कनेक्शन भोपाल सीट से कांग्रेस प्रत्याशी और दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह से है. वो खुद तो भोपाल में दिग्विजय सिंह के समर्थन में उतर ही आए हैं. वो खुद तो आए ही अपने साथ संतों की पूरी जमात लेकर आए हैं. ये साधु संत दिग्विजय सिंह की जीत की कामना के साथ भोपाल में हठ योग और धूनी रमा कर बैठे. इन संतों का 3 दिन 7,8 और 9 मई को भोपाल में डेरा रहेगा. संत समागम के दूसरे दिन कम्प्यूटर बाबा ने दिग्विजय सिंह के समर्थन में संतों के साथ रोड-शो किया. स्वामी नामदेव दास त्यागी से ये कम्प्यूटर बाबा इसलिए कहलाए क्योंकि बाबा हाईटेक हैं.

कम्प्यूटर बाबा दिगंबर अखाड़े के हैं. उनकी पहचान श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर नामदेव त्यागी के तौर पर है. बाबा का इंदौर के अहिल्या नगर में आश्रम है.वो रहते तो कुटिया में हैं, लेकिन चलते हेलिकॉप्टर से हैं. वो हाईटैक हैं. फेसबुक पर लगातार सक्रिय रहते हैं. भक्तों से लगातार चैटिंग करते हैं. उनका नाम साथी साधु संतों ने ही रखा है

 

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Related Articles