बिना सृजित पद के कर दी असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति

हरिद्वार।

संस्कृत विवि में 2016 में हुई असिस्टेंट प्रोफेसरों की नियुक्ति को अब छात्रों ने भी विवि प्रशासन पर आरोप लगाने शुरू कर दिया है।

छात्रों का आरोप है कि विवि में बिना सृजित पद के ही एक असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति कर दी ।

जिसकी जांच गंभीरता से कराई जारी चाहिए।



संस्कृत विवि के पूर्व कोषाध्यक्ष अशीष पोखरियाल ने प्रेस को जारी विज्ञप्ति में बताया कि विवि के इतिहास विभाग में बिना सृजित पद के एक असिस्टेंट प्रोफेसर की 2016 में नियुक्ति कर दी गई है।

जिसके चलते इस असिस्टेंट प्रोफेसर का वेतन वित्ताधिकारी ने कई महीने तक रिलीज नहीं किया था।

बाद में विवि प्रशासन और शिक्षकों के दबाव में इस शिक्षक का वेतन जारी किया गया था।

डिसक्लेमर :ऊपर व्यक्त विचार इंडिपेंडेंट NEWS कंट्रीब्यूटर के अपने हैं,
अगर आप का इस से कोई भी मतभेद हो तो निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखे।

Read more Haridwar News in Hindi here. देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में पढ़ने के
लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles