मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में कांग्रेस अध्यक्ष (Congress state president) पद को लेकर सरगर्मी तेज है

मुख्यमंत्री कमलनाथ (CM Kamal Nath) ने शुक्रवार को दिल्ली (New Delhi) में पार्टी हाईकमान सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) से मुलाकात की है. ऐसे में अब ये कयास लगाए जा रहे हैं कि जल्द ही एमपी के नए प्रदेश अध्यक्ष के नाम का ऐलान हो जाएगा. प्रदेश अध्यक्ष पद से काफी ऊंचा है सिंधिया का कद इधर, कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) की प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद पर दावेदारी को पीडब्ल्यूडी मंत्री (PWD Minister) सज्जन सिंह वर्मा (Sajjan Singh Verma) ने अफवाह (Rumour) बताया है. उन्होंने कहा कि कुछ लोगों द्वारा उड़ाई गई ये अफवाह है कि सिंधिया प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए दावेदारी पेश करने जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि सिंधिया का कद इतना बड़ा है कि उन्हें प्रदेश अध्यक्ष के लिए दावेदारी पेश करने की जरूरत ही नहीं है. जब जो पद चाहेंगे वो उन्हें मिल जाएगा, क्योंकि हाईकमान उनकी कार्यशैली और क्षमता को बखूबी जानता है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस महासचिव के पद से काफी छोटा है प्रदेश अध्यक्ष का पद. बाला बच्चन की पैरवीसज्जन सिंह वर्मा ने गृहमंत्री बाला बच्चन (Bala Bachchan) की एक बार फिर पैरवी करते हुए कहा कि बाला बच्चन को गृहमंत्री के साथ-साथ प्रदेश अध्यक्ष भी बना देना चाहिए. उन्होंने कहा कि ये मेरा अपना मत है और ये उसी तरह है जिस तरह मंत्री इमरती देवी (Imarti Devi) सिंधिया को महाराष्ट्र (Maharashtra) की कमान दिए जाने को लेकर अपनी बात कह रही हैं. एक बार फिर होगी सर्जिकल स्ट्राइक : सज्जन सिंह वर्मा पीडब्ल्यूडी मंत्री ने केंद्र सरकार पर निशाना (Target) साधते हुए कहा कि कुछ राज्यों में फिर चुनाव (Assembly Elections) आ रहे हैं, इसलिए एक बार फिर सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical strike) होगी. उन्होंने कहा कि बीजेपी (BJP) वोट के लिए लोगों को गुमराह (Mislead) करने की राजनीति शुरू कर देती है. ये भी पढ़ें:- लाख सज-संवर लूं लेकिन UPSC की तैयारी में लगा पति नहीं देता ध्यान, पत्नी ने मांगा तलाक ये भी पढ़ें:- केंद्र से पैसे के लिए BJP सांसदों से गुहार लगाएगी कांग्रेस।

If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

डिसक्लेमर :ऊपर व्यक्त विचार इंडिपेंडेंट NEWS कंट्रीब्यूटर के अपने हैं,
अगर आप का इस से कोई भी मतभेद हो तो निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखे।