अलवर गैंगरेप केस: कोर्ट ने पुलिस को लगाई फटकार, आज आरोपियों के खिलाफ पेश होगी चार्जशीट

संक्षेप:

  • अलवर गैंगरेप केस में पुलिस शनिवार को आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट पेश करेगी. चार्जशीट विशिष्ट न्यायाधीश एससी-एसटी कोर्ट अलवर में पेश की जाएगी
  • गैंगरेप और वीडियो वायरल करने के सभी आरोपी 30 मई तक न्यायिक अभिरक्षा में हैं
  • चार्जशीट तैयार करने में पुलिस की टीम जुटी रही है दिन रात

अलवर गैंगरेप केस में पुलिस शनिवार को आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट पेश करेगी. चार्जशीट विशिष्ट न्यायाधीश एससी-एसटी कोर्ट अलवर में पेश की जाएगी. पुलिस ने इसकी सभी तैयारियां पूरी कर ली है. गैंगरेप और वीडियो वायरल करने के सभी आरोपी 30 मई तक न्यायिक अभिरक्षा में हैं। राजस्थान सरकार ने अलवर गैंगरेप केस की जांच में लापरवाही बरतने के मामले की जांच के आदेश दिए हैं. इसमें एसपी से लेकर थानेदार तक सब की जांच की जाएगी. मामले की जांच में लापरवाही क्यों हुई थी इसकी सरकारी जांच करने के आदेश दिए गए हैं. जांच के बाद प्रशासन को 10 दिनों के अंदर रिपोर्ट सौपी थी।

चार्जशीट तैयार करने में पुलिस की टीम जुटी रही है दिन रात
उल्लेखनीय है गैंगरेप का मामला थानागाजी थाने में 2 मई को दर्ज हुआ था. पुलिस ने 7 ओर 8 मई को गैंगरेप के सभी पांचों आरोपियों समेत घटना का वीडियो वायरल करने के आरोपी को भी गिरफ्तार कर लिया था. सभी 6 आरोपी फिलहाल कोर्ट के आदेश पर 30 मई तक न्यायिक अभिरक्षा में हैं. आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट तैयार करने के लिए पुलिस के तकनीकी एक्सपर्ट और कानूनी जानकारों की टीम के साथ एक पुलिस उपाधीक्षक, एक सीआई, दो उपनिरीक्षकों समेत आधा दर्जन से अधिक एएसआई व हैड कांस्टेबल की टीम दिन रात जुटी रही है.

पुलिस के अनुसार चार्जशीट तैयार कर ली गई है. पुलिस की लीगल सेल ने भी उसका बारीकी से निरीक्षण किया है ताकि अनुसंधान में किसी तरह की कोई खामी नहीं रह सके. पुलिस ने शुक्रवार को पीड़ित पक्ष के कोर्ट में वायस सैम्पल भी करवा दिए हैं. पुलिस की ओर से कोर्ट में अपील की जाएगी की इस मामले को फास्ट ट्रेक कोर्ट में लिया जाए ताकि आरोपियों को जल्द से जल्द सजा हो सके.

ये भी पढ़े : दुलारने के बहाने ई-रिक्शा चालक ने बच्चे को गोद में बिठाया, फिर की ऐसी घिनौनी हरकत कि...


Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Related Articles