RBSE 12th Board Arts Topper: गंगानगर की गीता जयपाल बनीं बारहवीं टॉपर

संक्षेप:

  • RBSE 12th ARTS TOPPER बनी गंगानगर की गीता जयपाल 
  • जोरावरसिंहपुर के सरकारी स्कूल की हैं student
  • हासिल किए  99.40 प्रतिशत अंक 

राजस्थान बोर्ड RBSE 12th Arts Result 2019 परीक्षा परिणाम आज जारी हो गया.  श्रीगंगानगर जिले की गीता जयपाल 99.40 प्रतिशत अंक लाकर टॉप किया है. . अभी तक सामने आए परिणाम और छात्र-छात्राओं के प्राप्तांक के अनुसार गीता राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड 12वीं कला वर्ग परीक्षा-2019 की टॉपर बताई जा रही है. सरकारी स्कूल, राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल जोरावरसिंहपुर की छात्रा गीता जयपाल ने 500 में से 497 अंक हासिल किए हैं. बता दें कि राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से बुधवार तीन बजे 12वीं कला वर्ग परीक्षा-2019 के नतीजे घोषित किए हैं. इस परीक्षा में लड़कियों ने बाजी मारते हुए 90.8 फीसदी हासिल किया है. वहीं लड़कों का पास प्रतिशत 85.48 फीसदी रहा. आर्ट्स स्‍ट्रीम से पास होने वाले छात्रों की संख्‍या 88% रही. ऑफिशियल वेबसाइट rajeduboard.rajasthan.gov.in और rajresults.nic.in पर जाकर छात्र अपना रिजल्‍ट देख सकते हैं. अगली स्लाइड्स में पढ़ें, टॉपर गीता के प्राप्तांक और अन्य टॉपर्स की जानकारी.

गीता ने 500 में से 497 अंक हासिल किए हैं. तीन सब्जेक्ट में गीता ने 100 में से 100 अंक प्राप्त किए हैं. हिंदी, राजनीतिक विज्ञान और पंजाबी साहित्य में शतप्रतिशत परिणाम रहा है. जबकि अंग्रेजी में 99 और इतिहास में 98 अंक प्राप्त किए हैं. 

CBSE की 10वीं परीक्षा के नतीजे सोमवार को बोर्ड ने जारी कर दिए. सीबीएसई के सभी दस रीजन में अजमेर रीजन नतीजों में टॉप-3 में शामिल हुआ. अजमेर रीजन के चार स्टूडेंट ने भी टॉपर्स की सूची में जगह बनाने में सफलता हासिल की है. इनमें जयपुर की तरू जैन भी शामिल है. तरू ने कुल 500 में से 499 अंक हासिल कर पहली पॉजिशन प्राप्त की है. जयपुर की सेंट एंजिला सोफिया स्कूल में पढ़ने वाली तरू सीबीएसई ने 10वीं कक्षा के टॉपर्स में जगह बनाने वाली राजस्थान की एकमात्र स्टूडेंट है. 

ये भी पढ़े : UP Board Exam 2020: 18 फरवरी से 10वीं और 12वीं की परीक्षा, 20 से 25 अप्रैल के बीच रिजल्ट


Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Related Articles