राहुल से मुलाकात से पहले आखिरकार अशोक गहलोत ने ली हार की जिम्मेदारी

संक्षेप:

  • राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात से पहले चुनाव में हार की जिम्मेदारी ली है.
  • उन्होंने ट्विटर पर कहा है कि `हम सब कांग्रेस अध्यक्ष के साथ हैं, और हम सब 2019 की हार के लिए जिम्मेदार हैं.
  • सभी कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्री आज उनके आवास पर राहुल गांधी से मिलेंगे. 

जयपुर: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात से पहले चुनाव में हार की जिम्मेदारी ली है. उन्होंने ट्विटर पर कहा है कि `हम सब कांग्रेस अध्यक्ष के साथ हैं, और हम सब 2019 की हार के लिए जिम्मेदार हैं. सभी कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्री आज उनके आवास पर राहुल गांधी से मिलेंगे`. गहलोत ने कहा कि, 2019 का चुनाव कांग्रेस के कार्यक्रम, नीति और विचारधारा की हार नहीं है. यद्यपि, यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि अनेक मोर्चों पर मोदी सरकार की विफलता के बावजूद, बीजेपी ने विफलताओं को ढका, सरकारी मशीनरी और राष्ट्रवाद के पीछे विफलताओं को छिपाया, इसके बावजूद कांग्रेस अध्यक्ष ने चुनावों में सर्वश्रेष्ठ कोशिश की.

उधर, कांग्रेस में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के समर्थन में इस्तीफों का दौर जारी है. राजस्थान कांग्रेस के सहप्रभारी और AICC सचिव तरुण कुमार ने भी इसी कड़ी में शनिवार को इस्तीफा दे दिया था. जबकि सहप्रभारी से पहले शुक्रवार को प्रदेश सचिव जसवंत गुर्जर ने भी इस्तीफा दे चुके थे. लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार अपने इस्तीफे के फैसले पर अड़े हुए हैं और इसी के चलते सोमवार को उनसे मुलाकात के लिए सीएम अशोक गहलोत दिल्ली पहुंचे हैं.

ये भी पढ़े : राहुल ने किया चिदंबरम का बचाव, लिखा- सत्ता का गलत इस्तेमाल कर रही मोदी सरकार


अशोक गहलोत के अतिरिक्त राहुल गांधी से मिलने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दिल्ली पहुंचे हैं. राहुल इन तीनों मुख्यमंत्रियों से देश के सियासी हालातों पर चर्चा करेंगे. बीजेपी के खिलाफ आगे की रणनीति पर चर्चा के साथ ही इन तीनों ही राज्यों में सत्ता और सगंठन में बड़े फेरबदल पर भी राहुल से बातचीत हो सकती है.

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Related Articles