एक बार फिर हुई सख्ती : ट्रेन में की चेन पुलिंग, तो पहुंच जाओगे जेल

कानपुर।

सुनने में आया है कि देश में चलने वाली कुल पांच सौ ट्रेनों की चाल अब सुधरने के ढरर्रे पर है. इस क्रम में अब बारी है चेन पुलिंग करने वालों की. खबर मिली है कि अगली सख्‍ती इन्‍हीं के खिलाफ़ होने वाली है. अब ऐसे में आप भी इनमें से एक हैं तो सुधर जाइए, वरना भुगतना पड़ेगा खामियाजा.

खबर मिली है कुछ ऐसी खबर कुछ ऐसी है कि ट्रेन में अब हौजपाइप या चेन खींचने वाले को तुरंत गिरफ्तार किया जाएगा. इस बारे में आईजी रेलवे एसके सिंह ने सभी प्रभारियों को निर्देश जारी कर दिए हैं. इस निर्देश के तहत ये नियम मंगलवार से लागू हो जाएगा. इस क्रम में ट्रेन में चेन पुलिंग करने वालों के खिलाफ़ एक अभियान चलाया जाएगा.

जारी किए थे निर्देश पिछले सप्‍ताह रेल मंत्री पियूष गोयल ने बेपटरी चल रही पांच सौ मेल, एक्‍सप्रेस ट्रेनों की चाल सुधारने के लिए जोनवार अफसरों को निर्देश जारी किए थे. इसके तहत ये पता चला है कि ट्रेनों में एसी फेल होते हैं तो यात्री एक नहीं कई बार चेन पुलिंग करते हैं. इसी की वजह से ट्रेनें लेट होने लगती हैं और उनकी गंतव्‍य तक पहुंचने की उनकी अवधि खुद ब खुद बढ़ जाती है.

ऐस बताया पुलिस फोर्स प्रभारी ने इस बारे में रेलवे अफसरों से ये तय किया है कि ट्रेन में जो कोई भी चेन या हौज पाइप को खींचेगा, उसको तत्‍काल मौके से गिरफ्तार कर लिया जाएगा. इस बारे में रेलवे पुलिस फोर्स प्रभारी राजीव वर्मा ने बताया है कि चेन पुलिंग करने वालों पर पैनी निगाह रखने के लिए दो टीमों को सीसीटीवी रूम में लगाया जाएगा. ये टीम मोबाइल की मदद से प्‍लेटफॉर्म एस्‍कॉर्ट से लिंक रहेंगे.

प्‍लेटफॉर्म पर तैनात पुलिस करेगी मददइसकी मदद से तत्‍काल हुलिया बताया जाएगा. ऐसे में प्‍लेटफॉर्म पर तैनात सिपाही उसको पकड़ लेंगे. ठीक इसी तरह से प्‍लेटफॉर्म पर एक-एक अतिरिक्‍त टीम भी लगाई जाएगी. इन टीमों की मदद से जल्‍द से जल्‍द चेन पुलिंग करने वाले को पकड़ा जा सकेगा. गौरतलब है कि अगर स्‍टेशन के बाहर यानि कि आउटर स्‍टेशन पर चेनपुलिंग करने से ट्रेन कम से कम बीस मिनट तो लेट होगी ही.

डिसक्लेमर :ऊपर व्यक्त विचार इंडिपेंडेंट NEWS कंट्रीब्यूटर के अपने हैं,
अगर आप का इस से कोई भी मतभेद हो तो निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखे।

Read more Kanpur News In Hindi here. देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में पढ़ने के लिए
NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles