सरकार के विज्ञापित मामलों में ही जीएसटी का लाभ

संक्षेप:

जागरण संवाददाता, कानपुर : खाने-पीने की वस्तुओं, आउटडोर कैट¨रग, सौंदर्य उपचार, स्वास्थ्य सेवाएं, कास्मेटिक और प्लास्टिक सर्जरी में भुगतान की गई जीएसटी का लाभ अनुमन्य नहीं होगा। किसी क्लब के सदस्य हेल्थ एवं फिटनेस सेंटर, रेंटकैब, जीवन बीमा, स्वास्थ्य बीमा के मद में भुगतान की गई जीएसटी का लाभ आइटीसी के रूप में नहीं मिलेगा। केवल सरकार द्वारा विज्ञापित मामलों में ही इसका लाभ मिल सकेगा। यह जानकारी अधिवक्ता प्रमोद द्विवेदी ने टैक्स बार एसोसिएशन द्वारा मंगलवार को आयोजित संगोष्ठी में दी।

जीएसटी के नए संशोधनों और आइटीसी अनुमन्य न होने के नियमों के बारे में अधिवक्ताओं को बताते हुए उन्होंने कहा कि जीएसटी में इनपुट टैक्स क्रेडिट धारा 17-5 के तहत अनुमन्य न होने के प्रावधान परिभाषित किए गए हैं। मोटर कार एवं अन्य यात्री वाहन पर इनपुट टैक्स क्रेडिट सामान्य तौर पर नहीं मानी जाएंगी। लेकिन अगर उसकी आगे बिक्री की जा रही है या यात्रियों के परिवहन में लाई जा रही है तक इनपुट टैक्स क्रेडिट मानी जाएगी। रीयल एस्टेट एवं अचल संपत्ति के निर्माण की ठेकेदारी के मामले में आइटीसी की अनुमन्यता नियम व शर्तो के तहत सीमित की गई हैं।

उन्होंने बताया कि कारोबारी एवं सेवा प्रदाता अब जीएसटी पोर्टल के इलेक्ट्रॉनिक कैश क्रेडिट रजिस्टर में जमा कराई गई राशि बिना प्रयोग जमा बाकी का रिफंड प्राप्त कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि जीएसटीएन पोर्टल और सरकार के बीच सामंजस्य की आवश्यकता है। जीएसटी पोर्टल पर ट्रान-1 दाखिल करने की तिथि फिर से बढ़ाकर 27 दिसंबर 2017 कर दी गई है। समाधान योजना अपनाने वाले कारोबारियों को अपना प्रथम त्रैमासिक रिटर्न 24 दिसंबर 2017 तक दाखिल करना होगा। धारा 9-4 के तहत अपंजीकृत से खरीद एवं सेवा प्राप्त करने पर जीएसटी जमा करने के रिवर्स चार्ज नियम 31 मार्च 2018 तक स्थगित कर दिए गए हैं। शंका समाधान सत्र में श्याम धवन, पंकज श्रीवास्तव, एस मनु, विनीत गुप्ता, राजेश कुरील, एसएस निगम, आशीष गुप्ता, राज त्रिपाठी ने विचार व्यक्त किए। अध्यक्षता एसोसिएशन के अध्यक्ष संतोष कुमार गुप्ता, दिनेश प्रकाश और संचालन हरिओम गुप्ता ने किया।

Read more Kanpur News In Hindi here. देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में पढ़ने के लिए
NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles

Leave a Comment