कांग्रेस के कद्दावर कांग्रेसी श्रीप्रकाश जायसवाल को हरा कर संसद आए हैं सत्यदेव पचौरी, क्या मोदी कैबिनेट में मिलेगी सीट?

संक्षेप:

  • लोकसभा चुनाव 2019 में एक बार फिर शहरियों ने भाजपा पर भरोसा जताते हुए सत्यदेव पचौरी को भारी मतों से जिताया
  • शुरू से ही वोटों में लगातार मिल रही बढ़त ने भाजपा प्रत्याशी को जीत के लिए आश्वास्त कर दिया
  • वहीं प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस प्रत्याशी के चेहरे पर निराशा साफ नजर आने लगी

लोकसभा चुनाव 2019 में एक बार फिर शहरियों ने भाजपा पर भरोसा जताते हुए सत्यदेव पचौरी को भारी मतों से जिताया. शुरू से ही वोटों में लगातार मिल रही बढ़त ने भाजपा प्रत्याशी को जीत के लिए आश्वास्त कर दिया, वहीं प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस प्रत्याशी के चेहरे पर निराशा साफ नजर आने लगी. भाजपा प्रत्याशी 2,24,015 वोट लेकर 77721 मतों से बढ़त बनाए थे, तब प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस प्रत्याशी 1,46,384 वोट और गठबंधन प्रत्याशी को 22187 मत मिल चुके थे.

219363 मतों की गणना में भाजपा को 126315, कांग्रेस को 77959 तथा गठबंधन प्रत्याशी को 11816 वोट मिले थे. दसवें राउंड की मतगणना तक भाजपा को 59925, कांग्रेस को 31057 और गठबंधन को 5268 वोट प्राप्त हो चुके थे. आठवें राउंड में भाजपा प्रत्याशी का ग्राफ कुछ गिरा हालांकि 23593 वोटों से.बढ़त बनाए रखी. इसमें भाजपा को 51097, कांग्रेस को 27504 और गठबंधन को 3942 वोट मिले थे.सातवें चरण की मतगणना तक भाजपा प्रत्याशी सत्यदेव पचौरी 26 हजार 419 वोटों से बढ़त बनाई, इस राउंड में भाजपा को 44956, कांग्रेस को 18531, गठबंधन को 3334 वोट मिले. चौथे राउंड में भाजपा को 26175, कांग्रेस के श्रीप्रकाश जायसवाल को 9420 और गठबंधन प्रत्याशी रामकुमार को 1434 वोट मिले थे.

पहले राउंड में भाजपा के सत्यदेव पचौरी को 4489, कांग्रेस के श्रीप्रकाश जायसवाल को 2418 और गठबंधन के रामकुमार को 332 मिले.जिताकर संसद की राह दिखा दी है. वर्ष 2014 में लगातार तीन बार के कांग्रेस से सांसद रहे श्रीप्रकाश जायसवाल को नकारते हुए भाजपा उम्मीदवार डॉ. मुरली मनोहर जोशी को संसद भेजा था. ठीक उसी तरह इस बार भी जनादेश ने फिर से कांग्रेस प्रत्याशी श्रीप्रकाश को नकार दिया और भाजपा उम्मीदवार को एक लाख 55 हजार 33 मतों से विजयी बनाया है.

ये भी पढ़े : मोदी के 'वन नेशन वन इलेक्शन' पर मायावती के बाद अब अखिलेश ने भी कहा- नो थैंक्स


 

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Read more Kanpur News In Hindi here. देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में पढ़ने के लिए
NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles