लखनऊ: Forbes के `30 अंडर 30` में आया Share Chat के फाउंडर फरीद अहसन का नाम

संक्षेप:

  • Forbes मैगज़ीन में दर्ज हुआ UP के इनोवेटर्स का नाम
  • Share Chat के फाउंडर फरीद अहसन `Forbes 30 under 30`-2018 लिस्ट में
  • NYOOOZ ने की खास बातचीत
     

रिपोर्ट- शान्तनु त्रिपाठी

लखनऊ: आज के समय में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जो Facebook, WhatsApp और Instagram का प्रयोग ना करता हो। कहने का मतलब ये है कि आज के समय में हर व्यक्ति सोशल मीडिया से जुड़ा हुआ है।

कुछ ही साल पहले 2015 में उत्तर प्रदेश के 3 इनोवेटर्स के मन में ये आया कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में कुछ अलग तरह का इनोवेशन किया जाए तो उन्होंने एक ऐसा सोशल मीडिया प्लेटफार्म तैयार किया, जो लोगों में बहुत ज्यादा पसंद किया गया और अब इन्हीं इनोवेटर्स का नाम `Forbes 30 under 30`-2018 मैगज़ीन में पूरे एशिया में 30 युवा इनोवटर्स में से चुना गया है।

ये भी पढ़े : बायोफ्यूल से उड़ने वाले विमान का सफल परीक्षण, देहरादून से उड़ान भरकर दिल्ली एयरपोर्ट पर हुआ लैंड


साल 2015 में तैयार इस एप को इन इनोवटर्स ने `Share Chat` नाम दिया था। शेयर चैट के फाउंडर फरीद अहसन लखनऊ के रहने वाले हैं, वहीं दूसरे फाउंडर भानु प्रताप सिंह इलाहाबाद के रहने वाले हैं और फाउंडर अंकुश सचदेवा गाजियाबाद के रहने वाले हैं।

शेयर चैट के फाउंडर फरीद ने NYOOOZ से खास बातचीत में बताया कि हमारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को भारत के लोग ज्यादा प्रयोग करते हैं। इसकी वजह Share chat एप में 14 भारतीय भाषाओं को रखना है। इस समय 8 मिलियन लोग इस शेयर चैट ऐप को यूज कर रहे हैं।

Forbes 30 under 30-2018 में आया नाम
जानी-मानी फोर्ब्स मैगजीन में 30 साल से कम के 30 इनोवेटर्स के नाम आए हैं। इन्हीं कुल 30 मेंबर्स में शेयर चैट के फाउंडर्स का भी नाम है, जोकि बड़ी उपलब्धि है। आपको बता दें कि यह नाम केवल भारत नहीं बल्कि पूरे एशिया से चुने गए हैं।

घर से मिला पूरा सहयोग
फरीद ने बताया हम तीनो दोस्त IIT कानपुर के छात्र रहे हैं। फरीद बताते हैं कि हम सभी के घरवालों ने हमको हर तरह का सहयोग दिया। कहना है कि जब साल 2015 में हम तीनों एक नए स्टार्टअप के बारे में सोच रहे थे तो उस वक्त हमारे पेरेंट्स ने हमको पूरा सहयोग दिया और बोले कि तुम लोग आगे बढ़ो। फरीद का कहना है अक्सर मां-बाप बच्चों से यह भी कहते हैं कि IIT में पढ़ाई करने के बाद कोई अच्छी नौकरी करो लेकिन हमारे पेरेंट्स ने हमारा पूरा साथ दिया।

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Read more Lucknow Hindi News here. देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles