भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर से पंजाब सरकार ने छिनी डीएसपी की नौकरी

मेरठ. चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के नाम की ग्रेजुएशन की फर्जी डिग्री मामले में भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की खबर है।

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक इस मामले में हरमनप्रीत कौर को दोषी करार देते हुए पंजाब सरकार ने उनसे डीएसपी की नौकरी छीनने की तैयारी पूरी कर ली है।

मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद बागपत में फिर से हुई गोलियों की बरसात में दो गंभीर, पुलिस के उड़े होश

बताया जा रहा है कि भारतीय महिला टी-20 क्रिकेट टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर से डिप्टी एसपी रैंक छीनने की सारी तैयारी पूरी कर ली गई है।

सूत्रों के मुताबिक पंजाब सरकार ने फर्जी डिग्री केस में यह बड़ा फैसला लिया है।

खेल के मैदान पर अपने शानदार खेल से विरोधियों को पानी पिलाने वाली इस बल्लेबाज को अंतरराष्ट्रीय पटल पर देश का मान बढ़ाने के लिए रेलवे ने नौकरी दी और उसके बाद उन्हें पंजाब पुलिस में डीएसपी भी बनाया गया था।

कैराना में RLD की धन्यवाद सभा में नेताओं के बिगड़े बोल, पीएम के खिलाफ कही ऐसी बात

गौरतलब है कि पंजाब के मोगा की रहने वाली भारतीय महिला टी-20 क्रिकेट टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की ओर से एक मार्च को पंजाब पुलिस में डीएसपी बनाया गया था।

लेकिन डिग्री विवाद आने के बाद अब पंजाब पुलिस ने हरमनप्रीत को चिट्ठी लिखकर सूचित कर दिया है कि उनकी शिक्षा मात्र 12वीं तक है।

ऐसे में सिर्फ कॉन्स्टेबल की नौकरी ही मिल सकती है।

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के ऑफिस में तैनात एक अफसर की माने तो मौजूदा शैक्षिक योग्यता के हिसाब से हरमनप्रीत को डीएसपी की रैंक किसी भी कीमत पर नहीं दी जा सकती।

Indian women's T20 captain harmanpreet Kaur's manager says, "We have not received any official letter from Punjab police regarding the termination of her job. This is the same degree which she submitted in the Railways. How it can be fake and forged?" (File pic) pic.twitter.com/j7tCXk2flS

— ANI (@ANI) July 10, 2018

हरमनप्रीत के मैनेजर ने डिग्री को बताया असली

एक अंग्रेजी समाचार पत्र ने जब इस मामले में महिला क्रिकेट कप्तान से पूछा कि क्या सरकार ने आपको कॉन्स्टेबल का पद ऑफर किया है तो उन्होंने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया।

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

डिसक्लेमर :ऊपर व्यक्त विचार इंडिपेंडेंट NEWS कंट्रीब्यूटर के अपने हैं,
अगर आप का इस से कोई भी मतभेद हो तो निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखे।

अन्य मेरठ समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में पढ़ने के
लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें|

Related Articles