मुजफ्फरनगर: बिगड़ती जा रही हवा की सेहत, मुश्किल में सांस के रोगी

संक्षेप:

  • बिगड़ती जा रही हवा की सेहत
  • दिवाली के बाद से हवा की गुणवत्ता चल रही बेहद खराब 
  • मुश्किल में सांस के रोगी

मुजफ्फरनगर। दिवाली के बाद से हवा की गुणवत्ता बेहद खराब चल रही है। हवा की सेहत सुधरती नहीं दिख रही है। बुधवार को भी एक्यूआई 315 रिकॉर्ड किया गया। सुबह और शाम के समय स्मॉग छाया रहा। लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा। 26 नवंबर को जिले का एक्यूआई 423 के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया था। हवा का यह देश में सबसे खराब स्तर था। बुधवार को सुबह से स्मॉग छाया रहा। वाहन चालकों को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ा।

इस तरह बह रही हवा

तिथि एक्यूआई

ये भी पढ़े : जनपद में मिले कोरोना के 257 नए मरीज़, डीएम ने बनाए 12 नए कंटेनमेंट जोन


25 नवंबर 356      

26 नवंबर 423

27 नवंबर 309

28 नवंबर 263

29 नवंबर 326

30 नवंबर 237

01 दिसंबर 315

प्रदूषण फैला रही फैक्टरी पर कार्रवाई की मांग

प्रदूषण विभाग अधिकारियों की अनदेखी के चलते कचरा और पॉलीथिन जलाई जा रही है। निराना प्रधान मुजारैमीन पत्नि अय्यूब अंसारी ने प्रदूषण अधिकारी को पत्र भेजकर केमिकल्स युक्त प्रदूषित पानी और प्लास्टिक जलाने से बढ़ते प्रदूषण से ग्रामीणों को कैंसर जैसी बीमारी से बचाने के लिए कार्रवाई करने की माँग की है। प्रधान ने प्रदूषण अधिकारी से प्रदूषण फैलाने के लिए जिम्मेदार फैक्टरी संचालकों पर शीघ्र कार्रवाई करने की मांग की है।

मुश्किल में सांस के रोगी

खराब हवा के कारण सांस के रोगियों के सामने मुश्किलें खड़ी हो रही है। सीएमओ डॉ. महावीर सिंह फौजदार ने बताया कि सांस संबंधी रोगियों की ओपीडी बढ़ गई है। प्रदूषित हवा से बचाव के लिए मॉस्क का प्रयोग जरूर करें।

If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Related Articles