कोसी- सीमांचल-चंपारण समेत बिहार के कई इलाकों में बाढ़ का खतरा, 7 दिनों से हो रही लगातार भारी बारिश

संक्षेप:

  • बिहार में मानसून की बारिश लगातार जारी है और अगले 24 घंटे में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है.
  • कई जिलों में बाढ़ से हालात उत्पन्न हो रहे हैं.
  • विशेषकर कोसी क्षेत्र, सीमांचल और चम्पारण में पानी तबाही लेकर आ रही है.

सुपौल: बिहार में मानसून की बारिश लगातार जारी है और अगले 24 घंटे में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है. मौसम विभाग के अनुसार पटना समेत कई जिलों में मूसलाधार बारिश होगी. पिछले एक हफ्ते से बिहार के लगभग सभी जिलों में लगातार बारिश हो रही है, इससे कई जिलों में बाढ़ से हालात उत्पन्न हो रहे हैं. विशेषकर कोसी क्षेत्र, सीमांचल और चम्पारण में पानी तबाही लेकर आ रही है.

सुपौल: कुसहा त्रासदी को याद कर रहे लोग

जैसे जैसे कोसी का जलस्तर बढता है लोगों के जेहन में कुसहा त्रासदी की याद ताजा होने लगती है. जुलाई महीने में ही कोसी का जलस्तर एक बार फिर से उफान पर है. गुरुवार की सुबह से 8 बजे से कोसी के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है. वहीं कोसी महासेतू के नजदीक नौबाखर के पास लोगों के श्रमदान से बनाया बांध टूट गया है. गौरतलब है कि इसको बचाने की मांग को लेकर ही कई दिनों से ग्रामीण धरने पर बैठे थे.

ये भी पढ़े : धनतेरस के दिन करें इन 5 चीजों का दान, घर में होगी धन की वर्षा, माता लक्ष्मी की रहेगी कृपा


अररिया: चार प्रखंड बाढ़ प्रभावित

लगातार बारिश से नेपाल से निकलने वाली कई नदियों में उफान है. इससे अररिया जिले के 4 प्रखंड बाढ़ से प्रभावित हो गए हैं. पलासी, फारबिसगंज में बाढ़ की आशंका है. वहीं जोकीहाट प्रखंड में बकरा नदी में उफान पर है. किशनगंज रुट के बंद होने का खतरा है.

पूर्णिया: बायसी में कटाव शुरू

पूर्णिया के बायसी अनुमंडल में महानंदा और कनकई नदी में जलस्तर में तेजी से वृद्धि हो रही है. हालांकि दोनों नदिया अभी खतरे के निशान से नीचे बह रही हैं, लेकिन इस इलाके के लोगों के लिये चिन्ता बढ़ गयी है. वहीं बायसी अनुमंडल में कई जगहों पर कटाव भी शुरू हो गया है.

सीतामढ़ी: रेल परिचालन बाधित

भारी बरसात के कारण रेल खंडों पर ट्रेन का परिचालन बाधित होना शुरू हो चुका है. सीतामढ़ी-मुजफ्फपुर और दरभंगा-बैरगनिया रेल खंड पर ट्रेन परिचालन ठप है. कई ट्रेनों का रुट बदल दिया गया है.सीतामढ़ी और शिवहर जिले के कई इलाकों में बाढ़ का पानी घुस गया है. बागमती और अधवारा समूह की नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. सीतामढ़ी के कई प्रखंडों सड़क संपर्क टूट गया है और सीतामढ़ी-भिट्ठामोड़ NH 104 पर बाढ़ का पानी बह रहा है. वहीं शिवहर में नदी के जल स्तर मे वृद्धि से शिवहर से मोतिहारी सड़क का वेलबा के निकट सड़क सम्पर्क भंग हो गया है.

बक्सर: गंगा के जलस्तर में लगातार वृद्धि

भारी बारिश के कारण गंगा के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है. दूसरी ओर बारिश के पानी में दर्जनों गांव डूब गए हैं. खेतों में लगी सैकडों एकड़ की फसल पानी मे डूब गई है.

बगहा: कई इलाकों में बाढ़ का खतरा

नेपाल के तराई क्षेत्रों में लगातार बारिश के बाद गंडक नदी के जलस्तर में भारी वृद्धि हुई है. बाल्मीकि नगर गंडक बराज से शनिवाह सुबह 8 बजे तक 1,79,600 क्यूसेक पानी डिस्चार्ज हुआ है. पिछले 24 घंटे से लगातार गंडक नदी का जलस्तर में वृद्धि जारी है ऐसे में उत्तर बिहार में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है. अगर ऐसे ही बारिश होती रही तो बगहा, बेतिया, गोपालगंज सहित उतर बिहार के कई इलाके बाढ़ के चपेट में आ सकते हैं.

गोपालगंज: तटबंधों में रेनकट

गोपालगंज में कई दिनों से हो रही लगातार बारिश से तटबंधों में कई जगह रेनकट होने लगा है. इस रेन कट से तटबंधों में जगह- जगह दरारें आ गयी हैं. तटबंधो में लगातार दरार होने से उनकी मजबूती कम हुई है. इसके साथ ही अगर गंडक में पानी का दबाव बढ़ता है तो सारण मुख्य बांध को बचाना मुश्किल हो जायेगा. गोपालगंज में प्रधानमंत्री सडक योजना के तहत सडक पर बना पुलिया एक भी बरसात झेल नहीं पाया और मानसून की पहली बारिश में ही पूरा पुलिया पानी की तेज धारा में बह गया. इस पुलिया के पानी में बहने से बरौली प्रखंड के बेलसंड, माधोपुर सहित करीब एक दर्जन गांवो का जिला मुख्यालय से सम्पर्क टूट गया है.

If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Related Articles