मौसम खराब होने के चलते सीएम योगी का नोएडा दौरा रद्द, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हुआ शिल्प हाट का उद्घाटन

संक्षेप:

नोएडा: उत्तर प्रदेश के 71वें स्थापना दिवस कार्यक्रम का रविवार को रंगारंग आगाज हो गया। सेक्टर-33 स्थित शिल्प हाट में शिल्प, कला, संस्कृति और प्रगति के इस उत्सव में पूरे प्रदेश की झलक देखने को मिली। तीन दिवसीय स्थापना दिवस कार्यक्रम का औपचारिक शुभारंभ सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे, हालांकि अब यह कार्यक्रम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होगा। दरअसल मौसम खराब होने के चलते सीएम योगी का विमान नहीं उड़ सका जिसके चलते उनके नोएडा दौरे को रद्द करने का फैसला लिया गया है।

नोएडा: उत्तर प्रदेश के 71वें स्थापना दिवस कार्यक्रम का रविवार को रंगारंग आगाज हो गया। सेक्टर-33 स्थित शिल्प हाट में शिल्प, कला, संस्कृति और प्रगति के इस उत्सव में पूरे प्रदेश की झलक देखने को मिली। तीन दिवसीय स्थापना दिवस कार्यक्रम का औपचारिक शुभारंभ सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे, हालांकि अब यह कार्यक्रम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होगा। दरअसल मौसम खराब होने के चलते सीएम योगी का विमान नहीं उड़ सका जिसके चलते उनके नोएडा दौरे को रद्द करने का फैसला लिया गया है।

मुख्यमंत्री करीब 706 करोड़ की विकास योजनाओं की सौगात देंगे। वहीं, आम जन के लिए पहले ही दिन शिल्पहाट को खोल दिया गया। साप्ताहिक अवकाश होने से खासी रौनक दिखाई दी। इस बार यूपी दिवस का यह चौथा संस्करण है। सांस्कृतिक आयोजन 26 जनवरी तक आयोजित होंगे, जबकि एक जनपद-एक उत्पाद योजना पर आधारित प्रदर्शनी का आयोजन 10 फरवरी तक होगा। इस वर्ष उत्तर प्रदेश दिवस की थीम आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश, महिला युवा किसान, सबका विकास-सबका सम्मान है। रविवार को आयोजन की शुरुआत शास्त्रीय नृत्य शिव आराधना के साथ की गई। तालियां और थालियां बजाकर कलाकारों का उत्साह बढ़ाया गया। इसके बाद कृषि विभाग की ओर से अन्नदाता संवाद और कृषि विज्ञान केंद्र की ओर से परिचर्चा आयोजित की गई।

शाम 5 बजे से 7 बजे तक कथक नृत्य नाटिका, ढ़ेडिया नृत्य, लोक गीत और रासरंग जैसे सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। शाम ढलते ही शिल्प हाट रंगबिरंगी रोशनी से जगमगा उठा। वाराणसी के घाट से लेकर ताजमहल का लोगों ने नोएडा में दीदार किया। एक जनपद-एक उत्पाद, स्वयं सहायता समूह के उत्पाद, औद्योगिक प्रदर्शनी, उत्तर प्रदेश के इतिहास की प्रदर्शनी, नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के मॉडल का प्रदर्शन और कृषि जैविक उत्पादों की प्रदर्शनी आकर्षण का केंद्र रही।

ये भी पढ़े : कोर्ट: सोशल मीडिया की रिपोर्टिंग सनसनीखेज़ होती है


पुलिस ने मिशन शक्ति और साइबर अपराध की जागरूकता पर आधारित प्रदर्शनी भी लगाई। पर्यटन विभाग की द हैरिटेज आर्क झांकी उत्तर प्रदेश नहीं देखा तो इंडिया नहीं देखा का संदेश देती नजर आई। साथ ही, रामनगरी अयोध्या के दीपोत्सव की झांकी भी आकर्षण का केंद्र बनी है।

पूर्वांचल की मिठास से लेकर पश्चिमांचल का स्वाद

शिल्पहाट में बनी चोखी हवेली को तीन दिवसीय कार्यक्रम के दौरान यूपी की रसोई में तब्दील कर दिया गया है। रविवार को यहां पहुंचकर लोगों ने पूर्वांचल की मिठास से लेकर पश्चिमांचल का स्वाद, बुंदेलखंड की सौगात, ब्रज की बहार और अवध की सुगंध नामक स्टॉल पर जाकर लजीज व्यंजनों का लुत्फ उठाया। पहले ही दिन यहां खासी भीड़ देखने को मिली।

ट्रैफिक पुलिस के साथ सेल्फी बनेगी यादगार लम्हा

शिल्पहाट में पुलिस के महिला शक्ति स्टॉल के नजदीक ही ट्रैफि क पुलिस का स्टॉल भी लोगों के आकर्षण का केंद्र बना रहा। यहां ट्रैफिक पुलिस के कटआउट के पीछे खड़े होकर बच्चों से लेकर बड़े तक सेल्फ ी लेते नजर आए। ट्रैफि क पुलिस की राइडर बाइक पर बैठकर भी लोगों ने फोटो खिंचवाए। ट्रैफि क पुलिस सड़क सुरक्षा का संदेश देते हुए लोगों के फोटो का मौके पर ही प्रिंट भी निशुल्क दे रही है, ताकि इसे यादगार लम्हा बनाया जा सके।

फिल्म सिटी से लेकर टॉय पार्क तक की झलक

आयोजन स्थल पर नोएडा का उत्कृष्ट शहर स्टॉल लोगों को खासा पसंद आ रहा है। देशी-विदेशी निवेशकों को लुभा रहे यमुना औद्योगिक विकास प्राधिकरण के स्टॉल पर नोएडा एयरपोर्ट से लेकर फि ल्म सिटी जैसी परियोजनाओं का खाका पेश किया जा रहा है। टॉय सिटी के मॉडल को शानदार तरीके से यहां पेश किया गया है। वहीं, नोएडा ने कचरा निस्तारण सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट जैसे कार्यों को अलग-अलग स्टॉल के माध्यम से बखूबी प्रदर्शित किया है।

तस्वीरों से पेश की नोएडा की विकास यात्रा

उत्तर प्रदेश का शो विंडो कहे जाने वाले नोएडा की विकास यात्रा को प्राधिकरण ने तस्वीरों के माध्यम से बेहद दिलचस्प तरीके से पेश किया है। चिल्ला रेगुलेटर के पास आज जहां पुलिस की बैरक है, वहां 1978 में नोएडा प्राधिकरण ने अपना पहला कार्यालय बनाया था।

सेक्टर-5 में 1978 में बनी नोएडा की पहली पानी की टंकी, वर्ष 1984 में नोएडा स्टेडियम के पुराने भवन, वर्ष 1999 में डीएनडी फ्लाई-वे के निर्माण, वर्ष 2003 में सेक्टर-5 के नंदन कानन पार्क के वट वृक्ष का पुरातन नोएडा की तस्वीर पेश करता दृश्य लोगों को आकर्षित कर रहा है।

2010 के कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान साइकिलिंग रेस की तस्वीर ने यादें ताजा की। दो दशक पुराना इंडियन ऑयल क्रॉसिंग का नजारा तस्वीर में दिखा, जहां आज मेट्रो दौड़ रही है। सन 1929 में शहीद भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त द्वारा असेंबली में फेंके गए बम बनाने में प्रयुक्त पत्थर की तस्वीर भी नोएडा की विकास यात्रा का हिस्सा बनी है।

दो साल पहले 25 जनवरी को दी थी मेट्रो की सौगात

नोएडा में अपने कार्यकाल के दौरान ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ यूं तो कई बार आ चुके हैं, लेकिन एक इत्तेफाक यह भी है कि ऐसा अब दूसरी बार होने जा रहा है जब 25 जनवरी को सीएम यहां आकर लोगों को विकास की सौगात देने जा रहे हैं। इससे पहले 25 जनवरी 2019 को मुख्यमंत्री ने नोएडा के सेक्टर-137 मेट्रो स्टेशन से एक्वा लाइन का शुभारंभ करके स्थानीय लोगों को मेट्रो की सौगात दी थी।

If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Read more Noida News In Hindi here. देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में पढ़ने के लिए
NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles