RBI का नया नियम, बैंक में जमा है 1 लाख से ज्यादा रकम तो नहीं होगी वापस

संक्षेप:

  • आरबीआई का नया नियम
  • बैंक में जमा है एक लाख से ज्यादा तो नहीं होगी रकम वापस
  • बैंक में रखी आपकी कुल रकम में से सिर्फ 1 लाख रुपये सुरक्षित होंगे

पंजाब नेशनल बैंक में हुए 11 हजार के महाघोटाले की भी भरपाई करने के लिए अब बैंकों की और सरकार को कड़ी मेहनत करने पड़ेगी और अगर बैंक में जमा आपके रकम की सरकार और बैंक भरपाई करती भी है तो आपको एक लाख रुपये से ज्यादा की रकम को आपको भूलना होगा। ऐसा रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की तरफ से बनाए गए नियमों के अनुसार है। 

आपको बताते चलें की आरबीआई की तरफ से जमाकर्ताओं को उनके जमा धन पर मिलने वाले इन्श्योरेंस कवर पर कुछ नियम बनाए हैं। डिपॉजिट इन्श्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉर्पोरेशन के नाम से बने इन नियमों के अनुसार बैंकों में आपके द्वारा जमा किए गए रकम में से केवल 1 लाख रुपये का इन्श्योरेंस कवर है। यह कवर सभी तरह के खातों पर लागू है। दरअसल आरबीआई की  वेबसाइट पर भी नए नियम लिखे गए हैं। 

What is the maximum deposit amount insured by the DICGC?
Each depositor in a bank is insured upto a maximum of Rs.1,00,000 (Rupees One Lakh) for both principal and interest amount held by him in the same capacity and same right as on the date of liquidation/cancellation of bank`s licence or the date on which the scheme of amalgamation/merger/reconstruction comes into force.

इसका मतलब ये साफ-साफ है की बैंक में रखी आपकी कुल रकम में से सिर्फ 1 लाख रुपये सुरक्षित होंगे। इसका मतलब यह है कि कभी अगर कोई बैंक दिवालिया होता है, तो लाखों रुपये की आपकी बचत में से सिर्फ 1 लाख रुपये की डिपॉजिट सुरक्षित रहेगी। इससे ज्‍यादा जितनी भी राशि होगी वह रकम डूब जाएगी। आरबीआई का यह नियम सभी बैंकों पर लागू है। इनमें विदेशी बैंक भी शामिल हैं, जिनको आरबीआई की तरफ से लाइसेंस मिला हुआ है। इस हिसाब से देंखे तो पीएनबी इस महाघोटाले के बाद दिवालिया होने की कगार पर खड़ी है।

ये भी पढ़े : कश्‍मीर में पाबंदी: CJI रंजन गोगोई बोले-'मामला गंभीर मैं खुद श्रीनगर जाऊंगा'


If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Read more Noida News In Hindi here. देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में पढ़ने के लिए
NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles