UPSC Result 2018: भोपाल की सृष्टि देशमुख लड़कियों में Topper, ऑल इंडिया में 5वां रैंक

संक्षेप:

  • भोपाल की सृष्टि जयंत देशमुख ने सिविल सर्विसेस परीक्षा में पांचवा और महिला वर्ग में पहला स्थान प्राप्त किया है
  • UPSC परीक्षा में लड़कियों में टॉपर रही भोपाल की सृष्टि देशमुख  इंजीनियर है
  • भोपाल के राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्व विद्यालय से उन्होंने केमिकल इंजीनियरिंग में बी टेक किया है

भोपाल: भोपाल की सृष्टि जयंत देशमुख (Shristi Deshmukh)ने सिविल सर्विसेस परीक्षा(UPSC Result 2018) में पांचवा और महिला वर्ग में पहला स्थान प्राप्त किया है. शुक्रवार देर शाम UPSC ने रिजल्ट जारी किया. इंदौर के प्रदीप सिंह ने परीक्षा में 93 वीं रैंक हासिल की. UPSC परीक्षा में लड़कियों में टॉपर रही भोपाल की सृष्टि देशमुख (Shristi Deshmukh) इंजीनियर हैं. भोपाल के राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्व विद्यालय से उन्होंने केमिकल इंजीनियरिंग में बी टेक किया है.

सृष्टि (Shristi Deshmukh) ने अपने पहले ही प्रयास में ये सफलता हासिल की है. उन्होंने कहा कि वो समाज के लिए काम करना चाहती हैं. खासतौर से महिला महिला सशक्तिकरण, शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा में सुधार लाना उनकी प्राथमिकता में होगा. वो अपनी सफलता का श्रेय अपने पेरेंट्स और अपनी लगन दोनों को देती हैं. सृष्टि का कहना है एक बड़ा सपना देखा था जो अब पूरा हुआ.

UPSC ने शुक्रवार शाम परीक्षा परिणाम घोषित किए. टॉप- 25 कैंडिडेट्स में से 15 पुरुष और 10 महिलाएं हैं. इसमें राजस्थान के रहने वाले और IIT बॉम्बे से कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग में बीटेक कनिष्क कटारिया ने टॉप किया है. वहीं RGPV,भोपाल से केमिकल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट सृष्टि जयंत देशमुख ने महिला वर्ग में पहला स्थान और ऑल इंडिया में 5 वीं रैंक हासिल की है. ऑल इंडिया में दूसरा स्थान पाने वाले अक्षत जैन जयपुर से हैं और गुवाहाटी आईआईटी से बीटेक हैं. अक्षत के पिता आईपीएस और मां आईआरएस अधिकारी हैं. तीसरा स्थान हासिल करने वाले जुनैद अहमद उत्तरप्रदेश से हैं. वहीं छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा की नम्रता जैन ने ऑल इंडिया में 12 वीं रैंक हासिल की है.देवी अहिल्या बाई विश्वविद्यालय 2016 के पास आउट प्रदीप सिंह UPSC main में 93 rank पर रहे.

ये भी पढ़े : 1997 के पीसीएस सेवा के 23 अधिकारियों को आईएएस प्रमोशन की मिली मंजूरी


Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Read more Noida News In Hindi here. देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में पढ़ने के लिए
NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles