कुशवाहा के समर्थन में रिजल्ट को लेकर पूर्व MLA ने लहराया हथियार, दी गोली चलाने की धमकी

संक्षेप:

  • लोकसभा चुनाव 2019 नतीजों के ठीक पहले बिहार में सियासत गरमाती दिख रही है
  • रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा द्वारा खूनी संघर्ष की बात कहे जाने के ठीक अगले दिन उनके समर्थन में एक नेता जी हथियार के साथ उतर गए
  • भभुआ के पूर्व विधायक और फिलहाल बक्सर लोकसभा सीट से बतौर निर्दलीय उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे रामचंद्र यादव ने अपनी प्रेसवार्ता में हथियार लहराया

लोकसभा चुनाव 2019 नतीजों के ठीक पहले बिहार में सियासत गरमाती दिख रही है. रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा द्वारा खूनी संघर्ष की बात कहे जाने के ठीक अगले दिन उनके समर्थन में एक नेता जी हथियार के साथ उतर गए. भभुआ के पूर्व विधायक और फिलहाल बक्सर लोकसभा सीट से बतौर निर्दलीय उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे रामचंद्र यादव ने अपनी प्रेसवार्ता में हथियार लहराया.

हथियार लहराते हुए यादव ने यहां तक कह दिया कि हम लोकतंत्र को बचाने के लिए गोली चलाने को तैयार हैं. हमें बस महागठबंधन के नेता आदेश दें. बता दें कि उपेंद्र कुशवाहा ने मंगलवार को पटना में लोगों से हिंसक अपील कर डाली थी. उन्होंने एग्जिट पोल को सिरे से खारिज करते हुए साफ कहा था कि `पहले बूथ लूट और अब रिजल्ट लूट` की तैयारी चल रही है. अगर रिजल्ट लूट की घटना हुई तो महागठबंधन के नेताओं से आग्रह है कि हथियार भी उठाना हो तो उठा लें. सड़कों पर खून बहेगा.

पहले जेडीयू ने पलटवार करते हुए कहा कि हमने चूड़ियां नहीं पहन रखी हैं तो अब एलजेपी प्रमुख रामविलास पासवान भी उसी तेवर में जवाब दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमने अपने कार्यकर्ताओं से कहा कि डिफेंसिव होने की कोई जरूरत नहीं है, बल्कि लोकतंत्र कमजोर करने की किसी भी कोशिश के खिलाफ लड़ने की आवश्यकता है.

ये भी पढ़े : Rafale और सबरीमाला मामले में रिव्यू पिटिशन पर सुप्रीम कोर्ट कल सुनाएगी फैसला


रामविलास पासवान ने उपेंद्र कुशवाहा पर सवाल उठाते हुए कहा कि अब कहते हैं हार जाएंगे तो खून खराबा होगा. यह तो सरासर चोर की दाढ़ी में तिनका वाली बात है. केंद्रीय मंत्री ने कहा, `मैंने पहले ही कहा था कि पीने वालों को पीने का बहाना चाहिए. जब विरोधी हार रहे हैं तो ईवीएम का बहना बना रहे

If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Related Articles