14 जून से होगी बिहार में हाई स्कूल टीचरों की नियुक्ति, ये रहा नियोजन का पूरा शे़ड्यूल

संक्षेप:

  • सरकार द्वारा पहले फेज में हाई स्कूल और प्लस 2 स्कूलों में शिक्षक बहाली का शिड्यूल जारी किया गया है.
  • 14 जून तक मेधा सूची के अंतिम प्रकाशन का निर्देश दिया गया है.
  • 17 जून से अभ्यर्थियों के कागजात की जांच होगी.

पटना: बिहार में लंबे समय से ठंडे बस्ते में पड़े शिक्षकों की नियुक्ति का रास्ता साफ हो गया है. सीएम नीतीश कुमार द्वारा समीक्षा बैठक के महज 48 घंटे बाद ही विभाग द्वारा नियुक्ति की प्रक्रिया का पूरा शिड्यूल जारी कर दिया गया है. सरकार द्वारा पहले फेज में हाई स्कूल और प्लस 2 स्कूलों में शिक्षक बहाली का शिड्यूल जारी किया गया है.

विभाग ने जारी किया है 5वें चरण का शिड्यूल

कोर्ट में मामला जाने की वजह से 5वें चरण की बहाली पर रोक लगी थी, जिसे अब जारी किया गया है. इसके तहत अब नियोजन इकाई पूर्व के अभ्यर्थियों की सूची जारी करेगा. 14 जून तक मेधा सूची के अंतिम प्रकाशन का निर्देश दिया गया है साथ ही 17 जून से अभ्यर्थियों के कागजात की जांच होगी.

ये भी पढ़े : बंपर वैकेंसी: बिहार में 1.38 लाख टीचर्स की होगी बहाली


24 जून को जारी होगा मेरिट लिस्ट

24 जून को मेरिट लिस्ट यानि मेधा सूची का अनुमोदन होगा, जिसके बाद 25 जून को मेधा सूची का सार्वजनीकरण होगा, वहीं 28 जून से 29 जून तक नियोजन पत्र निर्गत करने का निर्देश दिया गया है. शिक्षा विभाग के प्रवक्ता अमित कुमार ने बताया कि तय तिथि तक नियोजन का आदेश दिया गया है. ये नियोजन 31 दिसंबर 2015 तक प्राप्त रिक्त पदों के आधार पर किए जा रहे हैं.

सीएम ने की थी समीक्षा

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में पटना के संवाद भवन में शिक्षा विभाग की अहम बैठक हुई थी. इस बैठक में उन्होंने विभाग के कामकाज की समीक्षा की थी और कई महत्वपूर्ण निर्णय भी लिए. बैठक खत्म होने के बाद शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा ने मीडिया को जानकारी देते हुए कहा था कि हाई स्कूलों में 32 हजार पद खाली हैं जिनके लिए नियोजित शिक्षक बहाल होंगे जो 60 साल तक काम करेंगे. इसी के साथ कम्प्यूटर शिक्षकों की सरकार बहाली करेगी. मुख्यमंत्री के आदेश से TET और STET सर्टिफिकेट की वैधता खत्म नहीं होगी. ये सभी सर्टिफिकेट वैध रहेंगे. बता दें कि यह 31 मई तक ही वैध थे.

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Related Articles