RJD का सूपड़ा साफ होने से तनाव में लालू यादव, दिन का खाना छोड़ा, नींद भी नहीं आ रही

संक्षेप:

  • रांची के रिम्स अस्पताल से एक बड़ी खबर सामने आई है
  • कहा जा रहा है कि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल  के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की दिनचर्या बिगड़ गई है
  • जब से लोकसभा चुनाव के परिणाम आए हैं तब से लालू यादव न सो पा रहे हैं और न ही दोपहर का खाना खा रहे हैं

रांची के रिम्स अस्पताल से एक बड़ी खबर सामने आई है. कहा जा रहा है कि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की दिनचर्या बिगड़ गई है. जब से लोकसभा चुनाव के परिणाम आए हैं तब से लालू यादव न सो पा रहे हैं और न ही दोपहर का खाना खा रहे हैं. ऐसे में उनकी दिनचर्या ने डॉक्टरों को परेशानी में डाल दिया है. सूत्रों की माने तो सुबह का नाश्ता लेने के बाद लालू यादव रात में ही खाना खा रहे हैं. लालू ने दोपहर का लंच तीन दिनों से छोड़ दिया है.

लालू प्रसाद यादव का इलाज कर रहे प्रो. डॉ उमेश प्रसाद ने बताया कि वह सुबह का नाश्ता तो किसी तरह कर रहे हैं, लेकिन दोपहर का खाना नहीं खा रहे हैं. ऐसे में उन्हें इंसुलिन देने में परेशानी हो रही है. डॉ उमेश प्रसाद कहा कहना है कि तनाव के कारण उनकी ऐसी स्थिति हो गई है. ऐसे में जानकारों का कहना है कि लोकसभा चुनाव में राजद का सूपड़ा साफ होने से लालू यादव तनाव से गुजर रहे हैं.

कहा जा रहा है डॉक्टरों ने लालू प्रसाद को काफी समझाया और समय पर लंच लेने को कहा. इसके बावजूद भी लालू लंच नहीं ले रहे हैं. डॉक्टरों का कहना है कि यदि समय से खाना नहीं खाएंगे तो समय से दवा नहीं दी जा सकेगी. ऐसे में सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है. डॉ प्रसाद ने बताया कि शनिवार को उनका ब्लड प्रेशर व शुगर भी ठीक ही था.

ये भी पढ़े : बाहुबली अनंत सिंह कभी नीतीश के थे चहेते मगर अब उन्हीं के राज में कसा जा रहा है शिकंजा


लेकिन ऐसी स्थिति बनी रही तो कुछ कहा नहीं जा सकता है. सूत्रों के मुताबिक, चुनाव परिणाम के दिन लालू प्रसाद सुबह आठ बजे से ही टीवी खोलकर देख रहे थे, लेकिन जैसे-जैसे चुनाव परिणाम आने लगे उनकी उदासी बढ़ती चली गई. दोपहर एक बजे तो वो टीवी बंद कर सो गए थे. बता दें कि इस लोकसभा चुनाव में राजद को एक भी सीट नहीं मिली है. लालू की पार्टी का सूपड़ा साफ हो गया है. यही वजह है कि वे चिंतित हैं.

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Related Articles