हजारीबाग एलियन प्रकरण का रहस्य अभी तक है अनसुलझा, जाने यूएफओ के बारे में क्या कहते है वैज्ञानिक

संक्षेप:

  • हजारीबाग में एलियन दिखने की खबर बनी चर्चा का विषय
  • सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है तस्वीरें
  • जानिए क्या कहते है इस पर वैज्ञानिक

पटना- एलियन मतलब परग्रहीवासी या किसी दूसरे ग्रह का निवासी. वैज्ञानिक यह मानते हैं कि जिस तरह पृथ्वी पर मानव और दूसरे जीव-जंतु रहते हैं, ठीक इसी तरह हमारे आकाशगंगा में ऐसे हजारों-लाखों ग्रह हैं जहां दूसरे जीव भी रहते हैं. पिछले कई वर्षों से इस पर रिसर्च चल रहा है लेकिन अब तक इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है कि आखिर एलियन दिखता कैसा है. हां, इंटरनेट पर उसकी एक तस्वीर देखी जा सकती है और लोग यह मान लेते हैं कि एलियन ऐसा ही दिखता होगा. ऐसी तस्वीरें कहीं भी दिखती है तो लोग उसे एलियन समझ लेते हैं.

हजारीबाग में गुरुवार देर रात ठीक इसी तरह की एक तस्वीर दिखी जो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है. ऐसे में इस बात को लेकर खूब चर्चा हो रही है कि हजारीबाग की सड़क पर क्या एलियन घूम रहा था. अगर वह एलियन था तो फिर कहां से आया और बाद में गायब क्यों हो गया? क्या सचमुच वह एलियन था, भूत था या फिर कोई और? क्या उससे संपर्क साधा जा सकता है? क्या एलियन ने किसी इंसान से संपर्क करने की कोशिश की? यह अपने आप में बड़ा सवाल है. इस पर शोध होनी चाहिए. इस रिपोर्ट में आगे पढ़िये कि एलियन के बारे में आखिर वैज्ञानिक क्या कहते हैं.

यूएफओ यानि अनआइडिन्टिफाइड फ्लाइंग ऑब्जेक्ट्स वैसा वस्तु जो उड़ रहा है और जिसके बारे में कोई जानकारी नहीं है. नासा का यह दावा है कि जब पूरी दुनिया महामारी की चपेट में थी और हम सब अपनी घरों में बंद थे तब पृथ्वी पर भारी संख्या में यूएफओ या एलियन उतरे. अमेरिका में भारी संख्या में यूएफओ को देखा गया.

ये भी पढ़े : गोरखपुर: बीजेपी एनजीओ प्रकोष्ठ ने जारी की संयोजकों की नई सूची, गंधर्व पाठक बने क्षेत्रीय सह संयोजक


इसको लेकर बकायदा नासा ने एक वीडियो भी जारी किया था. अमेरिका की एक अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक ऐसा शायद इसलिए हुआ क्योंकि महामारी के चलते ज्यादातर लोग अपनी घरों में बंद थे. यह दावा है कि 2019 में 35 यूएफओ धरती पर आए लेकिन साल 2020 में 7 हजार से ज्यादा यूएफओ धरती पर उतरे. हालांकि, इनसे कोई संपर्क नहीं हो पाया. ये कहां से आए और कहां चले गए, यह अब भी एक रहस्य की तरह है और खगोलशास्त्रियों के लिए बड़ा सवाल है.

 
महामारी के दौरान जब एलियन या यूएफओ धरती पर उतरे थे तब अमेरिका के रक्षा मंत्रालय ने एक टास्क फोर्स का गठन किया था. इसे नाम दिया गया यूएपी यानि अनआइडेंटिफाइड एरियल फेनोमेना टास्क फोर्स. इस टास्क फोर्स का मकसद यूएफओ की पहचान करना और उस पर शोध करना था.

यह बताया गया कि आकाश से उतर रहे यूएफओ अमेरिका के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं. अभी तक टास्क फोर्स को एलियन या यूएफओ के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है. इसी साल मार्च में नासा ने एक मिशन लॉन्च किया है जिसका नाम है पैन्डोरा मिशन(pandora). इस मिशन के जरिये नासा एलियन के बारे में जानकारी हासिल करेगा. नासा की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक इस मिशन के जरिये दूसरे ग्रह से संपर्क करने की कोशिश होगी जिससे एलियन के बारे में जानना और आसान हो सकेगा.

If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.