वाराणसी में कोविड रिस्पांस सेंटर में 24 घंटे रिसीव होंगे 19 काल, जारी की एहतियाती दवाओं की लिस्‍ट

वाराणसी, कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि कोविड-19 महामारी के इस दौर में जन सामान्य को किसी भी प्रकार की कोविड संबंधी स्वास्थ्य समस्या होने पर तत्काल राहत पहुंचाए जाने हेतु "काशी कोविड रिस्पांस सेंटर" 24 घंटे संचालित किया जा रहा है।

जन सामान्य की सहायता हेतु जिसका हेल्पलाइन नंबर 1077/1800-180- 5567, लैंडलाइन नंबर क्रमशः 0542-2221937, 2221939, 2221941, 2221942, 2221944 व 2720005 हैं।

उन्होंने लोगों से अपील की है कि किसी भी प्रकार की कोविड संबंधी स्वास्थ्य समस्या होने पर इन नंबरों पर तत्काल सूचना दें।

काशी कोविड रिस्पांस सेंटर 24 घंटे संचालित किया जा रहा है तथा इन नंबरों पर एक बार मे 19 कॉल रिसीव किए जाने की व्यवस्था हैं।

जारी की एहतियाती दवाओं की सूची कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि होम आइसोलेशन एवं कोविड पॉजिटिव मरीज हेतु तत्काल उपचार/ट्रीटमेंट शुरू करने हेतु आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए गए हैं।

जिसके अनुसार वयस्क व्यक्तियों के लिए Tab IVERMECTIN (टेबलेट इवेरमएक्टिन) 12 एमजी का एक गोली रात्रि के भोजन के उपरांत 3 दिन तक, Azithromycin 500 mg OR Doxycycline 100 mg (अज़ीथ्रोमायसिन 500 एमजी या डोक्सिक्यूलिन 100 एमजी) का एक गोली दिन में भोजन के उपरांत 5 दिन तक, Paracetamol plain 500/650mg (पेरासिटामोल प्लेन 500/650 एमजी) बुखार होने की दशा में तीन बार सुबह, दोपहर, शाम, Sporlac (स्पोर्लक) पेट खराब (लूज मोशन) होने की दशा में एक गोली प्रतिदिन, Syp. Antitussive (सिरप एन्टीट्यूसिव) दो चम्मच तीन बार 5 दिनों तक प्रयोग कर सकते हैं।

10 वर्ष के ऊपर के बच्चों के लिए Azithromycin 250 mg (अज़ीथ्रोमयसिन 250 एमजी) का एक गोली दिन में भोजन के उपरांत 5 दिन तक, Paracetamol plain 250mg (पेरासिटामोल प्लेन 250 एमजी) का एक-एक गोली बुखार होने की दशा में तीन बार सुबह, दोपहर, शाम, Sporlac (स्पोर्लक) पेट खराब (लूज मोशन) होने की दशा में एक गोली प्रतिदिन, Syp. Antitussive (सिरप एन्टीट्यूसिव) दो चम्मच तीन बार 5 दिनों तक प्रयोग कर सकते हैं।

If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

डिसक्लेमर :ऊपर व्यक्त विचार इंडिपेंडेंट NEWS कंट्रीब्यूटर के अपने हैं,
अगर आप का इस से कोई भी मतभेद हो तो निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखे।

अन्य वाराणसीकी अन्य ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें और अन्य राज्यों या अपने शहरों की सभी ख़बरें हिन्दी में पढ़ने के लिए NYOOOZ Hindi को सब्सक्राइब करें।

Related Articles