स्वच्छ नगरी काशी की स्वच्छता ऐसी कि लोग पड़ने लगे बीमार, 46 मोहल्ले अति संवेदनशील, ग्रामीण इलाके भी जद में

वाराणसी. लगातार दो साल से स्वच्छता का तमगा हासिल करने वाले वाराणसी की सफाई व्यवस्था का आलम यह है कि अब लोग बीमार पड़ने लगे है।

लोग संक्रामक रोगों की चपेट में आने लगे हैं।

डायरिया फैलने लगा है।

इस बात को अब मुख्य चिकित्सा अधीक्षक भी स्वीकार करते हैं।

दरअसल इस उमस भरी गर्मी में जहां आर्द्रता बढ़ रही है सड़कों और गलियों में फैले कूड़े कचरे के चलते जो वाइरस फैल रहे हैं वह खतरनाक है।

दूससे उन कूड़े कचरों की गंध भी बीमारी का कारण बन रही है।

खास तौर पर डायरिया ने इस कदर पांव पसारा है कि सरकारी अस्पतालों से लेकर नर्सिंग होम और डॉक्टरों की क्लीनिक पर ऐसे मरीजों की बहुतायत देखी जा सकती है।

46 मोहल्ले और 72 ग्रामीण इलाके डायरिया की दृष्टि से अति संवेदनशील

हाल यह है इस स्वच्छ शहर का कि शहर के 46 मोहल्ले और 72 ग्रामीण इलाके डायरिया की दृष्टि से अति संवेदनशील मान लिए गए हैं।

डिसक्लेमर :ऊपर व्यक्त विचार इंडिपेंडेंट NEWS कंट्रीब्यूटर के अपने हैं,
अगर आप का इस से कोई भी मतभेद हो तो निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखे।

अन्य वाराणसी ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें
हिंदी में पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles