‘मुस्लिम तुष्टिकरण’ के आरोप पर सुषमा स्वराज हुई ट्रोल तो दिया कुछ ऐसा जवाब

संक्षेप:

  • विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को फिर किया गया ट्विटर पर ट्रोल
  • उन पर मुस्लिम तुष्टिकरण का आरोप लगाया गया
  • सुषमा स्वराज ने शनिवार शाम ट्वीट पर दिया जवाब

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को एक बार फिर ट्विटर पर ट्रोल किया गया और उन पर मुस्लिम तुष्टिकरण का आरोप लगाया गया। सुषमा के पति स्वराज कौशल ने एक ट्विटर उपयोगकर्ता की पोस्ट का स्क्रीनशॉट ट्वीट किया। इस पोस्ट में कौशल से कहा गया है कि वह मंत्री को ‘मुस्लिम तुष्टिकरण’ नहीं करने के बारे में समझाएं। विदेश मंत्री ने भी इस व्यक्ति के कुछ ट्वीटों को फिर से ट्वीट किया। उन्होंने ट्रोलों के अन्य ट्वीट भी री-ट्वीट किए जिन्होंने अलग-अलग धर्म मानने वाले दंपति को पासपोर्ट जारी करने के बाद उनकी आलोचना की थी।

आपको बता दें कि सुषमा ने शनिवार शाम ट्वीट किया, ‘‘दोस्तो मैंने कुछ ट्वीटों को लाइक किया है। यह पिछले कुछ दिनों से हो रहा है। क्या आप ऐसी ट्वीटों को जायज ठहराते हैं।’’ विदेश मंत्री ने उनके काम की तारीफ करने के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का धन्यवाद किया। भारत के राष्ट्रपति के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया, ‘‘देश से बाहर रह रहे हमारे नागरिकों को एक देश के तौर पर हमसे बहुत आशाएं हैं। मैं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के अनुकरणीय नेतृत्व के लिए उनकी प्रशंसा करता हूं। उन्होंने विदेश में रहे हमारे लोगों में जरूरत के समय में उन तक पहुंचने की सरकारी क्षमता के जरिए एक नया विश्वास पैदा किया है।’’ 

ये भी पढ़े : जेल से पूर्व बाहुबली विधायक उदयभान करवरिया ने लिखा सीएम योगी को पत्र, उठाया ये मुद्दा


इससे कुछ ही दिन पहले सुषमा को पासपोर्ट जारी करने को लेकर विवाद के सिलसिले में ट्रोल किया गया था। यह पासपोर्ट उस महिला को जारी किया था जिसने अन्य धर्म के मानने वाले से विवाह किया था। इस दंपति ने लखनऊ के पासपोर्ट सेवा केन्द्र में कार्यरत विकास मिश्रा पर उन्हें पासपोर्ट आवेदन को लेकर अपमानित करने का आरोप लगाया था। विवाद के बाद मिश्रा का स्थानांतरण कर दिया गया था। इस दंपति ने दावा किया कि मिश्रा ने महिला के पति से कहा कि वह हिन्दू धर्म अपना ले। अधिकारी पर यह भी आरोप लगाया कि उसने महिला को एक मुस्लिम से विवाह करने को लेकर आड़े हाथ लिया।

अन्य वाराणसी ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें
हिंदी में पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles