जानिए राजेंद्र की जुबानी जिसने खाई थी मुन्ना बजरंगी के AK47 की 18 गोलियां

माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी का खात्मा 9 जुलाई की सुबह बागपत की जेल में हुआ जब सुनील राठी ने पूरी की पूरी मैगजीन मुन्ना बजरंगी के सिर में उतार दी. कई जघन्य वारदातों को अंजाम देने वाले मुन्ना ने वाराणसी में पहली बार एके 47 से गोलियां चलवाई थी. उसकी 18 गोलियां खाकर राजेंद्र त्रिवेदी आज भी जिंदा हैं. न्यूज18 से बातचीत में राजेंद्र त्रिवेदी उस दिन की घटना को याद करके सिहर उठते है. मुन्ना बजरंगी की गोली का निशाना बने राजेंद्र ने बताया कि वाहन सवार मुन्ना बजरंगी और उसके गुर्गों ने एके 47 से ताबड़तोड़ हमला किया था. राजेंद्र बताते है कि मै उस वक्त पूर्वांचल विश्वविद्यालय छात्र संघ का अध्यक्ष था. पेशे से वकील राजेंद्र ने बताया कि 6 अप्रैल, 1997 को लंका इलाके के नरिया में मुन्ना बजरंगी ने एके 47 से ताबड़तोड़ गोलियां बरसा कर महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के तत्कालीन छात्रसंघ अध्यक्ष रामप्रकाश पांडेय, पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष सुनील राय, भोनू मल्लाह समेत चार लोगों की हत्या कर दी थी. हम सभी लोग मारुति कार से बीएचयू अस्पताल में भर्ती पूर्व विधायक सत्यप्रकाश सोनकर को देखकर लौट रहे थे, तभी नरिया स्थित जैन लॉज के पास मुन्ना बजरंगी और उसके गुर्गों ने तकरीबन डेढ़ सौ गोलियां बरसाई थीं. इस हमले में 4 दोस्तों की मौके पर मौत हो गई थी. इस हत्याकांड के चश्मदीद गवाह और सुनील राय के संग गाड़ी में बैठे आचार्य राजेंद्र त्रिवेदी को भी उस घटना में 18 गोलियां लगी थीं. एक महीने तक राजेंद्र त्रिवेदी का इलाज वाराणसी के सर सुंदरलाल चिकित्सालय में हुआ, जहां उन्होंने मौत को मात दे दिया. वो आज भी जिंदा है. राजेंद्र त्रिवेदी ने उस दिन की घटना को याद करते हुए बताया  कि जो लोग इस तरह निर्दोष लोगों की निर्मम हत्या में शामिल थे, उन्हें भगवान ने दंड दे दिया है. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने मुन्ना बजरंगी की हत्या के मामले की न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं. योगी ने कहा, 'जेल में हुई हत्या बहुत गंभीर मामला है. मामले की गहराई से जांच होगी. दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. इससे पहले बीते 29 जून को मुन्ना की पत्नी सीमा सिंह ने लखनऊ प्रेस क्लब में कॉन्फ्रेंस करके एनकाउंटर का भी अंदेशा जताते हुए सीएम से गुहार लगाई थी. यानी डाॅन की पत्नी का अंदेशा सच साबित हुआ.इस बीच डीएम बागपत ने मुन्ना बजरंगी हत्याकांड में अपनी प्रारंभिक रिपोर्ट शासन को भेज दी है. गौरतलब है कि सोमवार सुबह 6 बजे सुनील राठी ने मुन्ना बजरंगी की गोली मारकर हत्या कर दी और पिस्टल को गटर में फेंक दिया था. इसे भी पढ़ें :- मुन्ना बजरंगी की हत्या पर अखिलेश का ट्वीट, कहा-अराजकता का ऐसा दौर पहले कभी नहीं देखा मुन्ना बजरंगी मर्डर केस: सुनील राठी ने कहा- बजरंगी ने मेरे ऊपर तानी थी पिस्टल मुन्ना बजरंगी की पत्नी का आरोप- धनंजय सिंह, मनोज सिन्हा, अलका सिंह ने रची हत्या की साजिश मुन्ना बजरंगी मर्डर: डाॅन से माननीय बनने का सपना रह गया अधूरा।

डिसक्लेमर :ऊपर व्यक्त विचार इंडिपेंडेंट NEWS कंट्रीब्यूटर के अपने हैं,
अगर आप का इस से कोई भी मतभेद हो तो निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखे।

अन्य वाराणसी ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें
हिंदी में पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles