UP Election 2022: बलिया से भावुक रिश्ता जोड़ गए प्रधानमंत्री मोदी, बोले- ब्याज समेत लौटाऊंगा यहां की धरती का कर्ज

संक्षेप:

  • सोमवार को बलिया में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की जनसभा।
  • भोजपुरी में की भाषण की शुरुआत।
  • पीएम बोले- बलिया का दर्द मैं समझता हूं।

वाराणसी- यूपी में पांचवें चरण का चुनाव होने के बाद अब चुनावी संग्राम पूर्वांचल में पहुंच चुका है। रविवार को अपने संसदीय क्षेत्र पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को बलिया में जनसभा की। शहर से सटे हैबतपुर में जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने न सिर्फ विपक्ष पर हमला बोला बल्कि जनता को अहसास कराया कि वो उनके साथ हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि बलिया से मेरा एक भावुक रिश्ता ये भी है कि यहीं पर माताओं बहनों की जिंदगी बदलने वाली उज्ज्वला योजना की शुरुआत हुई थी। आज देश में 9 करोड़ से ज्यादा महिलाओं को जो मुफ्त गैस कनेक्शन मिला है, उसकी दिशा यहीं हमारे बलिया ने देश को दिखाई थी। 

भोजपुरी में की भाषण की शुरुआत
प्रधानमंत्री ने कहा कि बलिया ने जो प्यार मुझे दिया है, वो विकास के बाद ब्याज के साथ बलिया की धरती को, आप सब को लौटाऊंगा।  प्रधानमंत्री ने भोजपुरी में अपने भाषण की शुरुआत कर बलिया के महापुरुषों और दिग्गजों को नमन कर यहां के लोगों की नब्ज को भी छुआ।

ये भी पढ़े : राष्ट्रपति चुनाव में भाजपा की उम्मीदवार का समर्थन करेंगी मायावती, विपक्ष पर किया हमला


पूर्व पीएम चंद्रशेखर, जयप्रकाश के साथ चिंत्तू पांडेय और हजारी प्रसाद द्विवेदी के नामों के साथ कई समीकरण भी साधे। पीएम मोदी के भाषण के केंद्र में गांव, गरीब और किसान रहे। केंद्र सरकार की योजनाओं को उन्होंने एक-एक कर गिनाया। कहा कि पूर्वांचल समेत प्रदेश में सड़क, अस्पताल, बिजली, विकास के हर काम पर ध्यान दिया जा रहा है। 

विपक्ष पर करारा वार
पीएम मोदी ने कहा कि यूपी में पांच चरण के चुनाव हो चुके हैं। पश्चिम से पूरब तक घोर परिवारवादियों को जनता ने नकार दिया है। यूपी के लोगों ने बता दिया है कि यूपी की गाड़ी जाति-पात की गलियों में अटकने वाली नहीं है। उसने विकास के हाइवे पर रफ्तार भर ली है।

जाति-पात से ऊपर उठकर राष्ट्रहित का सम्मान और परिवारवाद का विरोध यही बलिया की परिभाषा है। बलिया और पूर्वांचल का यूपी का विकास मेरा कर्तव्य और मेरी प्राथमिकता है। योजनाओं में रोड़े अटकाने वालों से सावधान रहे। घोर परिवारवादियों को फिर पटखनी देनी है। 

कानून व्यवस्था वापस पटरी पर आ रही
पीएम मोदी ने कहा कि घोर परिवारवादियों ने यूपी की कानून व्यवस्था को बर्बाद कर दिया था। योगी की सरकार इसे वापस पटरी पर ला रही है। यहां के व्यापारी, कारोबारी भूल नहीं सकते की कैसे उनका पैसा गुंडे-बदमाश छीन कर ले जाते थे। योगी की सरकार में बलिया का व्यापारी सुरक्षित हो रहा है।

बहनों-बेटियों को घर से निकलने में बदमाशों का डर नहीं है। घोर परिवारवादियों ने अपने शासन में सिर्फ अपनी तिजोरी भरी। आपके क्षेत्र के विकास पर ध्यान नहीं दिया। पांच वर्ष में कई नई सड़कें बनवाई हैं। सड़कों को चौड़ी करने पर तेजी से काम चल रहा है। 

पीएम बोले- बलिया का दर्द मैं समझता हूं
पीएम मोदी ने कहा कि हमारी सरकार ने बीते पांच वर्षों में यहां अनेकों नई सड़कें बनवाई हैं, सड़कों को चौड़ा करने का काम भी तेजी से चल रहा है। बलिया के लोगों ने तो बिजली के अभाव में कितना खामियाजा भुगता है, बलिया के इस दर्द को मैं समझता हूं। हमारी सरकार ने बीते पांच वर्षों में यहां अनेकों नई सड़कें बनवाई हैं, सड़कों को चौड़ा करने का काम भी तेजी से चल रहा है। बलिया के लोगों ने तो बिजली के अभाव में कितना खामियाजा भुगता है, बलिया के इस दर्द को मैं समझता हूं। 

जो विकास में रोड़े अटकाते हैं उसे मत लाना
प्रधानमंत्री ने कहा कि बलिया के पांच लाख किसानों को खाते में 700 करोड़ रुपये दिए हैं। गरीबों को पेंशन दे रहे हैं। 60 साल के बाद सभी को 3000 मानसिक पेंशन मिले इसके लिए भी योजना है। इन सारी योजनाओं का लाभ गरीब तक पहुंचे, इसके लिए प्रयास किया। ये रुकने वाला नहीं है। क्योंकि यहां डबल इंजन की सरकार है। सीधे आप तक पहुंच जाता है। पहले की सरकारें रोड़े अटकाती थी। जो विकास में रोड़े अटकाते हैं उसे मत लाना ।

10 मार्च को रंगों वाली होली मनाएंगे। योजनाओं में नहीं देखते कौन किस जाति का है। सभी को लाभ मिल रहा है। 100 साल के सबसे बड़े संकट कोरोना का सरकार और लोग सामना कर रहे हैं। कोई भूखा नहीं रहे इसके लिए मुफ्त राशन दे रहे हैं। यूपी के 15 करोड़ गरीबों को लाभ मिल रहा है। ये घोर परिवारवादी कभी नहीं कर सकते। इन्होंने वैक्सीन पर भी भड़काया। आज ये वैक्सीन जीवन बचा रही है।

If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

अन्य वाराणसीकी अन्य ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें और अन्य राज्यों या अपने शहरों की सभी ख़बरें हिन्दी में पढ़ने के लिए NYOOOZ Hindi को सब्सक्राइब करें।

Related Articles