डीएम दीपक रावत ने किया खाद्यान्न गोदाम का औचक निरीक्षण, पढ़िए साथ में दो और ख़बरें

संक्षेप:

  • डीएम दीपक रावत ने की छापेमारी
  • बस हादसे में मारे गए लोगों को दी गई श्रद्धांजलि
  • फीस वृद्धि को लेकर प्रदर्शन

हरिद्वार: हरिद्वार के जिलाधिकारी दीपक रावत ज्वालापुर स्थित राजकीय खाद्यान्न गोदाम के औचक निरीक्षण पर पहुंचे। इस दौरान डीएम दीपक रावत ने अनाज के रखरखाव की व्यवस्था और उसकी गुणवत्ता की भी जांच की। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने पाया की राशन डीलरों के यहां सप्लाई होने वाला अनाज बिना उनकी मौजूदगी के गाड़ी में चढ़ाया जा रहा है जबकि गोदाम से अनाज उठाते वक्त राशन डीलर का मौजूद रहना जरूरी है। हालांकि रजिस्टर पर साइन लगभग सभी डीलर के मौजूद हैं। इस पर डीएम दीपक रावत ने संदेह जताते हुए कहा कि संभवता यह सभी हस्ताक्षर एक ही व्यक्ति ने किए हैं इसलिए सभी डीलर को हस्ताक्षर की जांच करने के लिए बुलाया गया है। यदि मामले में कोई लापरवाही पाई जाती है तो आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

ख़बर नंबर- 2: बस हादसे में मारे गए लोगों को दी गई श्रद्धांजलि

रविवार को उत्तराखण्ड के धूमाकोट बस हादसे में मारे गए मृतकों को श्रद्धांजलि देकर और घटना पर दुख प्रकट करते हुए कृषि उत्पादन मंडी समिति के पूर्व अध्यक्ष संजय चोपड़ा के संयोजन में धर्मनगरी हरिद्वार में बैठक आहूत की गई। बैठक के माध्यम से गैर राजनीतिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने सरकार को 03 सूत्रीय मांग पत्र भेजा। बैठक में 03 सूत्रीय मांगों पर विचार रखे गए जिनमें आगामी कांवड़ मेले को दृष्टिगत रखते हुए बाहर से आने वाले कांवड़ियों का प्रशासन द्वारा पंजीकरण किया जाए, दूसरी मांग मेला क्षेत्र सहित सम्पूर्ण शहरी क्षेत्र को गड्ढा मुक्त किया जाए तथा तीसरी मांग कांवड़ मेले के दौरान हिल बाईपास मार्ग को यातायात के रूप में संचालित किया जाए ताकि कांवड़ मेले के दौरान किसी प्रकार की कोई अनहोनी ना हो सके।

ये भी पढ़े : जानिए एसबीआई ने परीक्षार्थियों को क्यों किया आगाह


ख़बर नंबर- 3: फीस वृद्धि को लेकर प्रदर्शन

धर्मनगरी हरिद्वार में बीएचईएल स्थित केंद्रीय विद्यालय स्कूल में दो से तीन गुना तक अचानक फीस वृद्धि कर देने से स्कूलों में पढ़ रहे छात्रों के अभिभावकों में रोष है। विद्यालय के बच्चों ने अपने अभिभावकों और माताओें के साथ सड़कों पर उतर कर कैंडल मार्च निकाला। कैंडल मार्च के दौरान अभिभावकों ने भेल प्रबंधक पर आरोप लगाते हुए कहा कि स्कूल फ़ीस में बढ़ोतरी कर छात्र-छात्राओं का मानसिक व आर्थिक उत्पीड़न किया जा रहा है।

आपको बता दें कि अभिभावकों द्वारा कई बार स्कूलों के गेट पर फीस वृद्धि के विरोध में प्रदर्शन किए जा चुके हैं। हरिद्वार के भेल स्थित केंद्रीय विद्यालय के छात्र-छात्राओं के अभिभावकों ने भेल के सेक्टर 4 स्वर्ण जयंती पार्क से सेक्टर 5 तक कैंडल मार्च निकाल कर विद्यालय द्वारा की गई फीस वृद्धि पर रोष प्रकट किया। उनका कहना था कि भेल प्रशासन द्वारा 150 से 200 प्रतिशत फीस वृद्धि की गई है जिसके चलते आर्थिक रूप से कमजोर अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल से निकाल लें और प्रशासन बच्चों की कम संख्या का हवाला देते हुए स्कूल को बंद कर सके। अभिभावको ने इसका विरोध करते हुए कहा कि वह ऐसा हरगिज नहीं होने देंगे और बच्चों का भविष्य अंधकारमय नहीं होने दिया जायेगा उसके लिए भले ही उन्हें इस आंदोलन को किसी भी स्तर पर लेकर जाना पड़े।  

Read more Haridwar News in Hindi here. देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में पढ़ने के
लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles