चमकी बुखार: नहीं बिक रही मुजफ्फरपुर की शाही लीची, 60 फीसदी गिरी बिक्री

संक्षेप:

  • चमकी बुखार से हो रही मौतों के बाद से लीची की बिक्री बंद हो गई है.
  • बिहार में लीची बिक्री करीब 60 फीसदी तक कम हो गई है.
  • डॉक्‍टरों के साथ बिहार सरकार के मंत्रियों तक का कहना है कि बच्चों की मौत के पीछे उनका लीची खाना भी एक कारण है.

मुजफ्फरपुर: बिहार में एक्यूट इनसेफिलाइटिस सिंड्रोम (एइस) या चमकी बुखार की वजह से मरने वाले बच्चों का आंकड़ा 140 तक पहुंच गया है. इस आंकड़े में हर घंटे बढ़ोतरी हो रही है. इस बीच बिहार की शान और फलों की रानी के तौर पर पहचाने जाने वाला रसीला फल `लीची` विवादों के केंद्र में है. दरअसल, डॉक्‍टरों के साथ बिहार सरकार के मंत्रियों तक का कहना है कि बच्चों की मौत के पीछे उनका लीची खाना भी एक कारण है. इसका असर यह हुआ है कि बिहार समेत देश भर में लीची को संदिग्‍ध नजर से देखा जा रहा है.

हालात ये हो गए हैं कि लोगों ने लीची खरीदना तक बंद कर दिया है. इस वजह से दुकानदारों को खरीदार नहीं मिल रहे हैं और इस फल के कारोबार पर भी असर पड़ रहा है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बीते 1 हफ्ते में देशभर में लीची की बिक्री में करीब 30 फीसदी तक की गिरावट आई है. वहीं बिहार में लीची बिक्री करीब 60 फीसदी तक कम हो गया है. बहरहाल, आइए समझते हैं देशभर में फैले लीची के कारोबार के बारे में.

बिहार में लीची का उत्‍पादन

ये भी पढ़े : मंदी और GST से फीकी हुई Parle G की मिठास, 10,000 कर्मचारियों को नौकरी से निकालेगी कंपनी


बिहार की देश के लीची उत्पादन में कुल 40 से 50 फीसदी तक हिस्सेदारी है. कृषि मंत्रालय के आंकड़ों के 2017 के आंकड़े के मुताबिक बिहार में 32 हजार हेक्‍टेयर जमीन में 3 लाख मीट्रिक टन लीची का उत्‍पादन हुआ. बिहार में मुजफ्फरपुर को लीची उत्‍पादन का गढ़ माना जाता है. इसके अलावा समस्तीपुर, पूर्वी चंपारण, वैशाली, बेगूसराय में भी लीची का उत्पादन किया जाता है. बिहार सरकार की रिपोर्ट बताती है कि करीब दो महीने तक की लीची की फसल से सीधे तौर पर इस क्षेत्र के 50 हजार से भी ज्‍यादा किसान परिवारों की आजीविका जुड़ी हुई है.

लीची के प्रकार

बिहार में मुख्‍य तौर पर लीची की तीन कैटेगरी हैं- शाही, बेदाना और बंबई. बीते साल ही शाही लीची को जीआई टैग (जियोग्राफिकल आइडेंटिफिकेशन) मिला है. बता दें कि किसी क्षेत्र विशेष के उत्पादों को खास पहचान देने के लिए जियोग्रॉफिल इंडीकेशन सर्टिफिकेशन दिया जाता है. बिहार के अलावा जिन राज्‍यों में लीची का उत्‍पादन होता है उनमें पश्चिम बंगाल और उत्तराखंड शामिल हैं.

करीब 160 मीट्रिक टन लीची का निर्यात

डायरेक्टर जनरल ऑफ सेंसेंटर एक्साइज इंटेलिजेंस (DGCIS) की रिपोर्ट के मुताबिक भारत दुनिया के करीब 15 देशों को लीची निर्यात करता है. जिन देशों को लीची निर्यात होता है उनमें संयुक्‍त अरब अमीरात, नेपाल, ओमान, कतर, भूटान, कुवैत, सिंगापुर, नॉर्वे, ब्रिटेन, कनाडा और फ्रांस शामिल हैं. साल 2018-19 में कुल 137.27 लाख रुपये के 159.97 मीट्रिक टन लीची का निर्यात हुआ है. इस साल भारत ने सबसे अधिक नेपाल को 138.15 मीट्रिक टन लीची का निर्यात किया है. 2017-18 में 108.24 मीट्रिक टन और 2016-17 में 124.02 मीट्रिक टन लीची 15 देशों में भेजे गए.

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.