चुटकुले या मीम्स देखकर भी पीएम मोदी को नहीं आता है गुस्सा, जानिए उनकी जिंदगी के और भी राज अक्षय कुमार के साथ

संक्षेप:

  • चुनावी मौसम में पीएम नरेंद्र मोदी ने बॉलिवुड अभिनेता अक्षय कुमार को एक गैर राजनीतिक इंटरव्यू दिया
  • अक्षय कुमार के सवाल और पीएम मोदी के चुटीले जवाबों को लेकर सोशल मीडिया पर खूब चर्चा हो रही है
  • पीएम मोदी ने अपनी जिंदगी से जुड़े कई ऐसे राज खोले हैं, जिनके बारे में देश की जनता कम ही जानती है

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार को एक नन- पॉलिटिकल इंटरव्यू दिए हैं. खास बात यह है इस इंटरव्यू में पीएम मोदी के निजी जीवन के कई अनछुए पहलूओं पर से रहस्य का पर्दा उठा है. अक्षय कुमार ने पीएम मोदी से कई रोचक और मजाकिए सवाल पूछे हैं जिसका जवाव भी पीएम मोदी ने काफी चुटीले अंदाज में दिया है.

आइए कुछ चुनिंदा सवालों और उनके जवाबों पर नजर डालते हैं

अक्षय कुमार: ट्विटर पर, फेसबुक पर आपके उपर जो कार्टून बनते हैं, क्या उससे आपको गुस्सा आता है

ये भी पढ़े : व्यापम का जिन्न: दिग्विजय ने CM कमलनाथ को लिखी चिट्ठी,कहा- दोषियों को बख़्शा नहीं जाए


पीएम मोदी: मेरे ऊपर जो चुटकुले-कार्टून-मीम बनते हैं उन्हें देखकर मुझे लोगों की क्रिएटिविटी समझने का मौका मिलता हैं. मीम्स को देखकर मैं इंजॉय करता हूं, मोदी को कम, क्रिएटिविटी को ज्यादा देखता हूं. मेरा विरोध भी होता है तो मजा आता है. सोशल मीडिया का फायदा यह है कि कॉमन मैन की सेंस, क्रिएटिविटी समझने में बड़ा मजा आता है.

अक्षय कुमार: आप अपने बिजी शेड्यूल, यात्राओं और इतनी चुनावी रैली के बाद भी हमेशा फिट और तरोताजा दिखते हैं, क्या है आपके सेहत का राज

पीएम मोदी: सूर्यास्त के पहले खाना खाएं. सुबह काफी मात्रा में खाएं. दिन में थोड़ा खाएं.

अक्षय कुमार: सुना है आप रात-रात भर जग के काम करते हैं, तो फिर आप सोते कब हैं

पीएम मोदी: में तीन घंटे ही सोता हूँ. मेरे डाक्टर हमेशा यही कहते रहते हैं कि मुझे खूब सोना चाहिए. यहां तक कि अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी यही आग्रह किया कि मुझे नींद पूरी करनी चाहिए.

अक्षय कुमार: आप अधिकतर छोटी बांह का की कुर्ता पहनते हैं, कोई खास वजह

पीएम मोदी: लंबी बांह का कुर्ता बैग में ज्यादा जगह लेता है. और उसे धोने में भी दिक्कत होती है. इसलिए छोटी बांह का कुर्ता पहनता हूँ. मैं गरीब घर में पैदा हुआ हूं. लोटे से कपड़े स्त्री करता रहा हूं. चूंकि प्रेस करने के लिए मेरे पास आयरन नहीं होता था.

अक्षय कुमार:आपका रिटायरमेंट प्लान क्या है

पीएम मोदी: जिम्मेवारी ही मेरी जिंदगी है. शरीर का कण-कण और ज़िन्दगी का पल पल किसी न किसी मिशन में ही खपाऊंगा.

अक्षय कुमार: क्या आपको गुस्सा आता है?

पीएम मोदी: मैं लम्बे समय तक मुख्यमंत्री रहा, मैं प्रधानमंत्री हूँ. लेकिन, मुझे अपना गुस्सा व्यक्त करने का समय नहीं मिला.

अक्षय कुमार: इतना बड़ा आपका घर है. आपका मन करता है आपके मां-भाई आपके साथ घर पर रहें?

पीएम मोदी: अगर मैं पीएम बनकर घर से निकलता तो शायद मन करता लेकिन मैं बहुत छोटी आयु में घर से निकला था. उसके बाद जिंदगी डिटैच हो गई. मेरी ट्रेनिंग इसी तरह से हुई है. एक अवस्था में छोड़ा तो मुश्किल होती है। जिस वक्त घर छोड़ा था, उस वक्त तकलीफ हुई होगी लेकिन अब जिंदगी वैसी बन गई. मन करता है तो कभी मां को बुला लिया, उनके साथ कुछ दिन बिताए. मैं जब मां से मिलता हूं तो सवा रुपये मेरे हाथ पर रख देती हैं.

अक्षय कुमार: मैंने अपने ड्राइवर की बेटी से पूछा कि मोदी से कोई सवाल पूछना चाहोगी. उसने कमाल का सवाल पूछा. हमारे प्रधानमंत्री आम खाते हैं? खाते हैं तो काट के खाते हैं या फिर गुठली के साथ खाते हैं?

पीएम मोदी: आम मैं खाता हूं और मुझे यह बहुत पसंद है. गुजरात में आमरस की परंपरा भी है. जब मैं छोटा था कभी खेतों में चले जाता था. देश का किसान बड़ा उदार रहता है. खेत में आकर खाने पर रोकता नहीं है. चोरी पर रोकता है. पेड़ पर पके आम खाना मुझे पसंद था. प्राकृतिक रूप से पके हुए खाना. जब बड़े हुए तो आमरस और कई किस्म के आम खाने की आदत हुई. अब लेकिन कंट्रोल करना पड़ता है. सोचना पड़ता है कि इतने खाऊं की नहीं.

अक्षय कुमार: आपके पास अलादीन का चिराग हो, जिन्न तीन विश मांगे तो आप क्या मांगेगे?

पीएम मोदी: बिना परिश्रम के कुछ नहीं मिलता है और अगर मुझे अलादीन का चिराग मिल जाये तो मैं उसे कहूंगा की ये जितने भी समाजशास्त्री और शिक्षाविद हैं उनके दिमाग में भर दो कि वे आने वाली पीढ़ियों को ये अलादीन के चिराग वाली थिअरी पढ़ानी बंद कर दें. उन्हें मेहनत करने की शिक्षा दें.

वीडियो साभार: ANI

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Read more Noida News In Hindi here. देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में पढ़ने के लिए
NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles